गयापत्तालक  

गयापत्तालक महाकवि विद्यापति द्वारा रचिक एक धर्म ग्रंथ हैं।

  • यह ग्रन्थ महाकवि ने किसी ख़ास राजा या रानी के आदेश पर किसी का गुनगान करने के लिए नहीं लिखा है। बल्कि इसका सम्बन्ध सामान्य जनता से है।
  • स्मरणीय तथ्य यह है कि यहाँ सामान्य जनता से तात्पर्य हिन्दू जनता से है।
  • गया में श्राद्ध एवं पिण्डदान तथा गया जाकर पितृ ॠण से मुक्त होने से सम्बन्धित महात्म्य की यह लघु पुस्तिका है।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गयापत्तालक&oldid=330585" से लिया गया