गुप्तोत्तर काल  

गुप्तोत्तर काल में भारत की राजनीतिक स्थिति के निम्नलिखित पहलू विशेष रूप उल्लेखनीय है।

  • दक्षिण भारत के इतिहास के अन्तर्गत चालुक्य एवं पल्लवों के इतिहास का अध्ययन 550 ई. के मध्य।
  • अरबों का सिन्ध पर आक्रमण एवं उसके भारतीय इतिहास पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन।
  • राजपूतों की उत्पत्ति के अन्तर्गत हर्ष के बाद की सभी शक्तियों का अध्ययन।
  • 'त्रिपक्षीय संघर्ष' में प्रतिहार, पाल एवं राष्ट्रकूट की भूमिका अध्ययन।
  • 9वीं शताब्दी के उपरान्त उत्तरी एवं दक्षिणी भारत के कुछ क्षेत्रीय राज्यों का अध्ययन ।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गुप्तोत्तर_काल&oldid=502223" से लिया गया