गुयानी हिन्दी  

  • गुयाना में 1870 में भारतीय आए थे जिनमें अधिकांश भोजपुरी - भाषी थे।
  • 1980 तक यहाँ भोजपुरी ही चली।
  • बाद में भारत से सम्पर्क के बाद मानक हिन्दी का प्रचार हुआ।
  • यहाँ की हिन्दी भोजपुरी तथा अंग्रेज़ी से काफ़ी प्रभावित है।
  • यहाँ की भाषा को 'टूटल भाषा' कहा जाता रहा है। 'टूटल' भोजपुरी कृदंती विशेषण है जिसका अर्थ है 'टूटी हुई'।
  • यहाँ के अशिक्षित अब भी अपनी भाषा के रूप में भोजपुरी बोलते हैं, तथा शिक्षित लोग हिन्दी।
  • यहाँ से पहले 'आग्रोसी' पत्र निकलता था जिसमें अंग्रेज़ी के अतिरिक्त हिन्दी पृष्ठ भी होता था। अब 'अमर ज्योति' और 'ज्ञानदा' पत्रिकाएँ निकलती हैं।
  • यहाँ के हिन्दी साहित्यकारों में महातम सिंह तथा गोकरन शर्मा आदि मुख्य हैं।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गुयानी_हिन्दी&oldid=226523" से लिया गया