घनश्याम लाल जोशी  

घनश्याम लाल जोशी भारत के स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म बेगूं क्षेत्र के सूलमगरा नामक गाँव में एक ग़रीब ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

  • अपनी किशोरावस्था में ही उन्होंने 'बिजोलिया किसान आन्दोलन' में सक्रिय रूप से भाग लिया था।
  • इस आन्दोलन में भागीदारी के कारण बेगूं के राव ने इन्हें बन्दी बना लिया और भयंकर यातनाएँ दीं। इनके परिवार के सदस्यों को भी तंग किया गया।
  • घनश्याम लाल जोशी को 1972 ई. में भारत सरकार ने ताम्र पत्र एवं प्रतिमाह पेंशन की राशि भेंटकर सम्मानित किया।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नागोरी, डॉ. एस.एल. “खण्ड 3”, स्वतंत्रता सेनानी कोश (गाँधीयुगीन), 2011 (हिन्दी), भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: गीतांजलि प्रकाशन, जयपुर, पृष्ठ सं 139।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=घनश्याम_लाल_जोशी&oldid=622662" से लिया गया