घनश्याम शुक्ल  

धनश्याम शुक्ल असनी, उत्तर प्रदेश के निवासी थे। बाद के समय में ये रीवा के नरेश के यहाँ दरबारी कवि नियुक्त हुए थे। फिर उसके बाद ये काशी के महाराज चेतसिंह के दरबार में आये। यहाँ इन्होंने ‘कवत्त-हजारा’ नामक काव्य ग्रंथ की रचना की थी।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. काशी कथा, साहित्यकार (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 10 जनवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=घनश्याम_शुक्ल&oldid=435516" से लिया गया