घृताची  

घृताची स्वर्ग की एक अप्सरा का नाम है, जो तपस (माघ) मास में अन्य गणों के साथ सूर्य पर अधिष्ठित रहती है।[1] इसे देखने से महर्षि वेदव्यास कामासक्त हो गए थे, जिससे शुकदेव उत्पन्न हुए थे।[2]

  • महर्षि च्यवन के पुत्र प्रमिति ने घृताची के गर्भ से रूरू नामक पुत्र उत्पन्न किया था।
  • महोदय (आधुनिक कन्नौज) के नरेश कुशनाभ ने इसके गर्भ से सौ कन्याएँ उत्पन्न की थीं।
  • गंगाद्वार के पास भरद्वाज ऋषि का आश्रम था। आश्रम के निकट घृताची को स्नान करते देख भरद्वाज काम-पीड़ित हो गए, जिससे उनका वीर्यपात हो गया। मुनि ने स्खलित वीर्य को द्रोणि[3] रख दिया, जिससे वीर द्रोण का जन्म हुआ।
  • रुद्राश्व से घृताची को दस पुत्र और दस पुत्रियाँ हुई थीं।[4]
  • विश्वकर्मा से भी घृताची के पुत्र हुए थे।[5]
  • आश्वयुज मास में यह सूर्य के रथ पर अधिष्ठित रहती है।[6]
  • शरत में यह सूर्य के रथ पर अन्य गणों के साथ अधिष्ठित रहती है।[7]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भागवतपुराण 9.20.5; 12.11.39; विष्णुपुराण 1.9.103; ब्रह्मांडपुराण 2.23.13; 3.7.15; मत्स्यपुराण 49.4; वायुपुराण 69.49; 70.68.
  2. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 162 |
  3. एक प्रकार का पात्र
  4. हरिवंशपुराण
  5. ब्रह्मवैवर्तपुराण
  6. विष्णुपुराण 2.10.11
  7. ब्रह्मांडपुराण 4.33.19; वायुपुराण 52.13

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=घृताची&oldid=545017" से लिया गया