चंडी  

चंडी देवी (प्राचीन फुलकारी कढ़ाई, पंजाब)
  • चंडी चंडिका देवी भी कहलाती है, यह हिंदुओं की देवी शक्ति का रूप मानी जाती है।
  • चंडी देवी दानव-विनाशिनी है, जो पूर्वी भारत में विशेष रूप से लोकप्रिय हैं।
  • चंडी देवी को विभिन्न नामों से जाना जाता है, जैसे महामाया, अभया और यह, विशेषकर देवी महामाया की, स्थानीय मान्यताओं तथा संस्कृत परंपरा में संयुक्त रूप में प्रस्तुत होती हैं। उनकी प्रस्तुति शक्ति के दूसरे रूप दुर्गा के समान ही है।
  • चंडी देवी को आठ या दस भुजाओं से युक्त सिंह की सवारी करता हुआ दर्शाया जाता है।
  • सैकड़ों लोककथाओं और गीतों में उनके पराक्रमों का वर्णन है।
  • वह चंडीमंगल नामक मध्यकालीन बांग्ला साहित्य की केंद्रीय चरित्र हैं, जिनमें से सबसे विख्यात कृति मुकुंदराम चक्रवर्ती (लगभग 16वीं शताब्दी) की है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चंडी&oldid=568264" से लिया गया