चंडीगढ़  

India-flag.gif
चंडीगढ़
Chandigarh-Map.jpg
राजभाषा(एँ) अंग्रेज़ी, हिन्दी, पंजाबी
स्थापना 1 नवंबर, 1966
जनसंख्या 900,635[1]
· घनत्व 7,900 /वर्ग किमी
क्षेत्रफल 114 वर्ग किमी
भौगोलिक निर्देशांक 76°47'14" पूर्व, 30°44'14" उत्तर
तापमान 1°C से 44° C तक
· ग्रीष्म 27° C - 44° C (अप्रॅल - जुलाई)
· शरद 1°C - 16° C (नवम्बर - जनवरी)
वर्षा 1110.7 मिमी
सबसे बड़ा नगर चंडीगढ़
मुख्य पर्यटन स्थल केपिटल कॉम्प्लेक्स, पिंजौर गार्डन, रोज़ गार्डन, सुखना झील
लिंग अनुपात 1000:777 ♂/♀
साक्षरता 81.9%
प्रशासक वी.पी. सिंह बदनोर[2]
राजकीय पशु भारतीय ग्रे नेवला (Indian gray mongoose)
राजकीय पक्षी भारतीय ग्रे हॉर्नबिल (Indian gray Hornbill)
राजकीय पुष्प पलाश (Butea frondosa)
राजकीय वृक्ष आम (Mango Tree)
पिन कोड 160
टेलीफ़ोन कोड 91-172-XXX XXXX
वाहन पंजीयन संख्या CH-01 से CH-04 तक, PB-65 और HR-70
अन्य जानकारी चंडीगढ़ और उसके आसपास के क्षेत्र को 1 नवंबर, 1966 को केंद्रशासित प्रदेश बनाया गया। यह हरियाणा और पंजाब दोनों की राजधानी भी है।
बाहरी कड़ियाँ अधिकारिक वेबसाइट
अद्यतन‎
Seal of Chandigarh.gif

चंडीगढ़ (अंग्रेज़ी: Chandigarh) भारत का एक केन्द्र शासित प्रदेश और उत्तर भारत का प्रमुख शहर है जो तीन ओर से पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश से लगा हुआ है। स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की कल्पना के इस शहर को मूर्त रूप देने का कार्यभार एक फ्रेंच आर्किटेक्ट 'ली कार्बूजिए' को दिया गया था। कार्बूजिए ने जेनेरेट और मैक्सवेल व जेनड्रेन नामक दंपती के सहयोग से इस नगर का निर्माण किया। इसका नियोजन करते हुए इस बात का ध्यान रखा कि यहाँ आधुनिक युग की सभी सुविधाओं के साथ-साथ प्राचीन संस्कृति और परंपराएं भी हैं। यहाँ चौड़ी सपाट सड़कों पर प्राकृतिक सौंदर्य देखा जा सकता है। चंडीगढ़ और उसके आसपास के क्षेत्र को 1 नवंबर, 1966 को केंद्रशासित प्रदेश बनाया गया। यह हरियाणा और पंजाब दोनों की राजधानी भी है। इसके उत्तर और पश्चिम में पंजाब तथा पूर्व और दक्षिण में हरियाणा है। चंडीगढ़ आधुनिक शिल्‍पकला वैभव से संपन्‍न प्रदेश है। शिवालिक पहाडियों की नयनाभिराम तलहटी में बसा चंडीगढ़ वास्‍तविक अर्थों में एक ख़ूबसूरत शहर है। फ्रांसीसी वास्‍तुशिल्‍पी 'ला कार्बूजिए' द्वारा निर्मित यह शहर आधुनिक स्‍थापत्‍य कला तथा नगर नियोजन का शानदार उदाहरण है।

भौगोलिक स्थिति

इस शहर की ख़ासियत है स्वच्छता। चंडीगढ़ के लोग खुद अपने शहर की सफ़ाई के प्रति बहुत सतर्क रहते हैं। समुद्रतट से 365 मीटर की ऊंचाई पर स्थित 114 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैले सन् 1953 में निर्मित इस शहर में कभी जनसंख्या इतनी कम थी कि सिर्फ़ सुबह 9.30 बजे और शाम पांच बजे कार्यालयों की छुट्टी के समय ही लाल बत्ती पर लोग दिखते थे। बहुत ही शांत माना जाता है यह शहर।
रॉक गार्डन, चंडीगढ़
कई लोग तो इसे पत्थरों का शहर भी कहते हैं। उनका मानना है कि यह बसाया हुआ शहर है और इसकी कोई आत्मा नहीं है। इसके लोगों की आर्थिक स्थिति का अंदाज़ उनके रिहायशी इलाके से आंका जाता है। हर सेक्टर एबीसीडी चार भागों में विभक्त है। ए-बी अभिजात्य, सी मध्यम और डी निम्न मध्यमवर्गीय लोगों के लिए। मुग़ल शैली की भवन निर्माण कला का अध्ययन करने आए विदेशी पत्रकार कार्ल लुडगिस्ट चंडीगढ़ को एक नज़र देखने के बाद अभिभूत रह गए थे। चंडीगढ़ के चीफ कमिश्नर रह चुके स्व. एम.एस. रंधावा की फूलों और पेड़-पौधों में विशेष रुचि थी। उन्होंने सारे शहर में सड़कों के किनारे वीथियों पर अमलतास, गुलमोहर, सावनी, पोयनसंटिया, कचनार के पेड़ इस प्रकार लगवाए कि सड़कों के किनारे लगे ये पेड़ हर मौसम में फूलों से लदे दिखें और आते-जाते लोगों का झुककर स्वागत करें। यहाँ हर चौराहे को अत्यंत उत्कृष्ट सजावटी पौधों से इस प्रकार संवारा गया है कि पर्यटक शहर में क़दम रखते ही सफ़र की थकान भूल जाते हैं।

जलवायु

यहाँ की जलवायु बहुत ही सुखद है। भीषण गर्मी में यहाँ सूती कपड़े और जींस आदि पहने हुए लोग देखे जा सकते हैं। सर्दियों के लिए गर्म मोजे, स्वेटर, जैकेट और शॉल पर्याप्त हैं।

प्रशासनिक व्यवस्था

चंडीगढ़ प्रशासन मुख्यत: चार उद्देश्यों को लेकर आगे बढ़ रहा है।

  1. इसका उद्देश्‍य सूचना और प्रौद्योगिकी मदद से सुगम और पारदर्शी प्रशासन देना है। यह सूचना अधिकार क़ानून के प्रावधानों को सबसे पहले लागू करने वाले राज्यों में से है। कई सेवाएं, जिनके लिए पहले लोगों को सरकारी दफ़्तरों के चक्‍कर लगाने पडते थे, अब कंप्‍यूटर और मोबाइल फ़ोन पर उपलब्‍ध हैं। सारे नियमों की इस दृष्टि से समीक्षा की जाती है कि उन्‍हें किस प्रकार से सरल बनाया जाए जिससे वे आम आदमी के अनुकूल हो सकें।
  2. प्रशासन आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्‍साहित करके आर्थिक ज्ञान पर आधारित उद्योग, उच्‍चस्‍तरीय वाणिज्यिक कार्यकलाप जैसी अधिक मूल्‍यवर्द्धक सुविधाएं प्रदान विकास की उच्‍च दर प्राप्‍त करने के लिए काम कर रहा है। चंडीगढ़ में प्रति व्‍यक्ति आय पहले से ही देश में सबसे ज्‍यादा है और सरकार चाहती है कि उस आधार को सुधारा जाए।
  3. प्रशासन बिजली आपूर्ति, जल आपूर्ति, स्‍वास्‍थ्‍य और शिक्षा सेवा जैसी मूलभूत सेवाएं और सार्वजनिक परिवहन की ऐसी सेवाएं प्रदान करना चाहता है जो उन्‍नत देशों के मुक़ाबले की है।
  4. प्रशासन इस वास्‍तविकता के प्रति पूरी तरह सचेत है कि विकास का लाभ प्रत्‍येक व्‍यक्ति तक समान रूप से नहीं पहुंचता है। इसलिए इस बात पर विशेष ज़ोर दिया जा रहा है कि विकास उन लोगों तक पहुचें जहां अभी तक नहीं पहुंच पाया है।
    रोज़ गार्डन, चंडीगढ़

कृषि और सिंचाई व्यवस्था

चंडीगढ़ में कृषि योग्‍य भूमि बहुत कम है। चंडीगढ़ शहर के विस्‍तार के लिए कृषि भूमि धीरे-धीरे अधिग्रहीत की जा रही है और कृषि-क्षेत्र, जो 1966 में 5,441 हेक्‍टेयर था, 2002-03 में घटकर 1,400 हेक्‍टेयर रह गया है। सिंचाई का मुख्‍य स्रोत प्रशासन द्वारा स्‍थापित गहरे बोर वाले ट्यूबवैल तथा किसानों द्वारा लगाए गए साधारण ट्यूबवैल हैं। यहाँ की मुख्‍य फ़सल गेहूँ है जो 700 हेक्‍टेयर में बोया जाता है। यहाँ के कृषि विभाग ने फ़सल कटाई की तकनीक को सुधारने के लिए निम्‍न उपाय किए हैं-

  1. किसानों का प्रशिक्षण
  2. बागवानी का विकास
  3. मृदा व जल संरक्षण।
  4. उद्योग
  • प्रशासन द्वारा मोली जागरण गांव के राजस्‍व एस्‍टेट में औद्योगिक क्षेत्र के तीसरे चरण का विकास किया गया है। यहाँ 152 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया गया है।
  • लगभग 17 साल के अंतराल के बाद चंडीगढ़ को सभी संघ राज्‍य क्षेत्रों के बीच रजत पदक प्रदान किया गया जो भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला, 2007, नई दिल्ली में राज्य के उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन हेतु दिया गया।

विद्युत व्यवस्था

उच्च न्यायालय, चंडीगढ़
  • चंडीगढ़ को अपनी विद्युत आवश्‍यकताएं पूरी करने के लिए आस-पास के राज्‍यों और केंद्रीय उत्‍पादन परियोजनाओं से बिजली मिलती है। भाखड़ा संकुल में कुल विद्युत उत्‍पादन में इसकी हिस्‍सेदारी 3.5 प्रतिशत है।
  • ताप नाभिकीय और गैस आधारित केंद्रीय उत्‍पादन परियोजनाओं से 82.9 मेगावॉट का ठोस आबंटन मिलता है। इस कमी को बी बी एम बी के अलावा केंद्रीय उत्‍पादन परियोजनाओं से तदर्थ आबंटन के माध्‍यम पूरा किया जा रहा है। शहर के आस पास सभी गांवों में बिजली है और सार्वजनिक रोशनी को विस्‍तारित किया गया है। विभिन्‍न सरकारी भवनों में लगभग 20,000 ऊर्जा सक्षम लैम्‍प लगाए गए हैं।

सूचना प्रौद्योगिकी

  • चंडीगढ़ प्रशासन की दूरदर्शी परियोजना 'राजीव गांधी चंडीगढ़ टेक्‍नोलॉजी पार्क' (आर. जी. सी. टी. पी.) का निर्माण कार्य पूरी गति से हो रहा है। इसके तीसरे चरण के पूरा होने पर 35000 व्यावसायिकों को प्रत्‍यक्ष रोज़गार मिलेगा और इस प्रकार आर. जी. सी. टी. पी. के प्रत्‍यक्ष रोज़गार की संख्‍या बढ़ कर 67000 हो जाएगी और इससे चंडीगढ़ में 2,00,000 अप्रत्‍यक्ष रोज़गारों का सृजन होगा। आर. जी. सी. टी. पी. के उद्यमी विकास केन्‍द्र की स्‍थापना लगभग 1.5 एकड़ क्षेत्रफल में की जा रही है।
  • सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करने तथा जल समूह को अनुकूल सेवाएं देने के लिए चंडीगढ़ एक आदर्श राज्य बन गया है। ई-शासन पहल के तहत विभाग द्वारा धानास, हुडाजासु, कैम बावाला, रायपुर ख़ुर्द, रायपुर कलां, माखनमाज़रा और बहलाना गांवों में सात अन्‍य ग्राम संपर्क केन्‍द्र 2007 के दौरान स्‍थापित किए गए हैं। गांव पनसोड़ा, दादूमाज़रा, हालो माज़रा, ख़ुदा अलीशेर, दरिया, मोली जागरण और मलोया में सात और 'ग्राम संपर्क केन्‍द्र' बनाए गए हैं।
  • इन केन्‍द्रों के अतिरिक्‍त कुछ अन्‍य संपर्क केन्‍द्रों का प्रस्‍ताव है और नई सेवाएं जैसे बीएसएनएल बिलों का भुगतान, बिजली के बिल, पानी के बिल, एल.आई. सी. प्रीमियम का भुगतान, स्‍कूलों की फ़ीस का भुगतान और नलकूप बुक करना है।
  • प्रशासन ऊर्जा संरक्षण की दिशा में कार्यरत है। टाटा बी.पी. सोलर लि. को वनस्‍पति उद्यान में राज्‍य स्‍तरीय ऊर्जा पार्क बनाने का आदेश दिया गया है। सौर प्रकाश पहल के तहत गांवों की सभी स्‍ट्रीट लाइटों के स्‍थान पर सौर आधारित स्‍ट्रीट लाइटें लगा दी गई हैं।

ऊर्जा और बिजली

  • संघ राज्‍य क्षेत्र के सभी निवासियों को पर्याप्‍त बिजली के प्रावधानों पर प्रशासन का ध्‍यान है। वॉल्‍टेज प्रोफाइल में सुधार लाने तथा संघ राज्‍य क्षेत्र के बिजली वितरण नेटवर्क पर लोड को कम करने के लिए विद्युत स्‍कंध में 80 एम.वी.ए.आर. स्‍वचालित केपेसिटर बैंक जोड़ने की योजना बनाई है जिसे संघ राज्‍य क्षेत्र के आस पास अलग अलग बिंदुओं पर विभिन्‍न मौजूदा 66 के.वी. ग्रिड सबस्‍टेशन पर लगाया जाएगा।
  • सी.एफ.एल. का उपयोग सभी सरकारी भवनों के लिए अनिवार्य बनाया गया है। इसी प्रकार सभी संस्‍थागत भवनों में उनके संकुलों के अंदर पार्किंग स्‍थलों पर सौर प्रकाश प्रदान किया जाएगा।
  • विद्युत विभाग ने वितरण की कमी के लक्ष्‍यों को 20.89 प्रतिशत से घटाकर 12.29 प्रतिशत कर दिया गया है। यह कमी लगभग 1.5 प्रतिशत है। अगले वर्ष में यह कमी 1.4 प्रतिशत तक कम करने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

ग्रामीण विकास

रॉक गार्डन, चंडीगढ़
  • समाज के ग़रीब और कमज़ोर वर्गों को आगे बढ़ाने के लिए उनके अधिकारों के विषय में तथा राज्‍य क़ानूनी सेवा प्राधिकरण द्वारा उन्‍हें दिए जाने लाभों की जानकारी प्रदान करने के लिए 14 क़ानूनी जागरूकता गोष्ठियां संघ राज्‍य क्षेत्र के अलग अलग गांवों में आयोजित की गई हैं।
  • गांव खजेरी और पलसोरा में सीमेंट, कंक्रीट, पेविंग और भूमिगत नालियां बनाने का कार्य पूरा कर लिया गया है। गांव मोली जागरण में 70 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है।

वाणिज्‍य और व्‍यापार

व्यापारियों के लिये अनुकूल वातावरण बनाने के उद्देश्‍य से सभी बड़े फैसले उनसे परामर्श करके लिए जाते हैं। चंडीगढ़ प्रशासन ने उत्‍पाद शुल्‍क नीति 2006-07 को लागू करने से पहले इस पर जनता की राय ली है। भारत सरकार के 'खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग मंत्रालय' उत्‍पाद शुल्‍क तथा अन्‍य करों की चोरी की जांच करेगी और प्रशासन की राजस्‍व को बढाएगी।

  • चंडीगढ़ केंद्रशासित प्रदेश में व्‍यावसायिक क्रियाओं को बढाने के लिए, एक व्‍यापार से दूसरे व्‍यापार में जाने वालों के लिए उदारीकरण की घोषणा की गई है। इस नीति के तहत व्‍यापारिक प्रतिष्‍ठानों के भूमि तल पर व्‍यापार बदलने की प्रक्रिया को नि:शुल्‍क करने की घोषणा की गई है। अब व्‍यापारिक परिसरों के भूमितल के व्‍यापारी बिना कोई शुल्‍क दिए अथवा आवेदन किए अपना व्‍यापार बदल सकते हैं।

खेलकूद मैदान

  • मोहाली स्टेडियम, मोहाली
  • चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम, (सेक्टर- 16)
  • चंडीगढ़ गोल्फ़ क्लब, सेक्टर 6
  • पंचकुला गोल्फ़ क्लब, सेक्टर 3
  • हाकी स्टेडियम, सेक्टर 42
  • कैरम स्टेडियम, सेंट स्टीफेंस स्कूल, सेक्टर- 46
  • रोलर स्केटिंग रिंक, सेक्टर 10
  • बैडमिंटन हाल, सेक्टर 7
  • स्विमिंग पूल सेक्टर 23
  • शूटिंग रेंज, पटियाली राव
  • अथलेटिक क्लब, सेक्टर 7

सामाजिक कल्‍याण

सुखना झील, चंडीगढ़

सामाजिक कल्‍याण प्रशासन का एक मुख्‍य उद्देश्य रहा है। अनेक जन अनुकूल योजनाएं प्रशासन द्वारा आरंभ की गई हैं। जातिगत भेदभाव की संकीर्णता को मिटाने के‍ लिए तथा अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए विवाहित जोड़ों को 5000 की राशि दी जाती है, जिनमें से यदि एक अनुसूचित जाति समुदाय का सदस्‍य हो तो प्रशासन यह राशि बढ़ाकर 50,000 रुपये कर देता है।

स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं

  • शासकीय चिकित्‍सा महाविद्यालय और अस्‍पताल, सैक्‍टर 32 आधुनिकतम सुविधाओं के साथ दूरस्थ चिकित्‍सा परियोजना आरंभ की गई। इसका लक्ष्‍य पी. जी. आई. के विशेषज्ञता प्राप्त डॉक्‍टरों की विशेषज्ञ सलाह का लाभ उठाने के लिए ज़रूरतमंद लोगों को सहायता प्रदान करना तथा उन्‍हें उच्‍च गुणवत्‍ता चिकित्‍सा सेवाएं देना है।
  • शासकीय बहु विशेषज्ञता अस्‍पताल (जी.एम. एस. एच.), सैक्‍टर 16 में आपातकालीन ऑपरेशन थियेटर सहित 28 बिस्‍तरों वाली एक इकाई जोड़कर उन्‍नत बनाया गया है।
  • प्रशासन ने प्रत्‍येक माँ और बच्चा 5273 रुपये की लागत पर संघ राज्‍य क्षेत्र में प्रजनन और बाल स्‍वास्‍थ्‍य के निगरानी योग्‍य सूचकांकों में सुधार के लिए परियोजना आरंभ की है।
  • शासकीय चिकित्‍सा महाविद्यालय और अस्‍पताल, चंडीगढ़ में पूर्व एनेस्थिसिया और पश्चात् एनेस्थिसिया कक्षों और ऑपरेशन पश्चात् के वॉर्ड सहित सात ऑपरेशन कक्ष स्‍थापित किए गए। मानसिक रूप से मंद व्‍यक्तियों के लिए एक आवासीय गृह ‘समर्थ’ भी सेक्‍टर 15, चंडीगढ़ में बनाया गया है। जी.एम.सी.एच. के कर्मचारियों को रहने के लिए लगभग 5.6 करोड़ रुपये की विशाल राशि स्‍वीकृत की गई है।

शिक्षा

  • चंडीगढ़ प्रशासन अपनी विश्‍वस्‍तरीय परियोजना के साथ बहु संस्‍थागत चंडीगढ़ शिक्षा शहर जो 130 एकड़ क्षेत्रफल में सारंगपुर में बनाया जा रहा है।
गांधी भवन, चंडीगढ़
  • प्रशासन ने सामान्‍य श्रेणी की बालिकाओं के लिए उपस्थिति छात्रवृत्ति 30 रु. प्रति माह से बढ़ाकर 250 रु. की है। यह छात्रवृत्ति कक्षा 1 से कक्षा 5 के लिए है।
  • अनुसूचित जाति के लड़कों और लड़कियों के बीच नामांकन और शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रशासन ने कक्षा 1 से कक्षा 8 में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति के छात्रों को उपस्थिति छात्रवृत्ति को 6 से 14 वर्ष के आयु समूह में 30 रु. प्रति माह से बढ़ाकर 250 रु. करने का निर्णय लिया है।
  • कक्षा 9 से 12वीं के अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति विद्यार्थियों की स्‍कालरशिप बढ़ाई जाएगी।
  • चंडीगढ़ प्रशासन ने मुस्लिम, ईसाई, अन्‍य पिछड़े वर्गों, विकलांगों, स्‍वतंत्रता सेनानियों के बच्‍चों, पूर्व-सैनिकों, विधवाओं और तलाकशुदा महिलाओं के बच्‍चों को ट्यूशन शुल्‍क से छूट दी है जिनकी आय 1.5 लाख रु. प्रति वर्ष से कम है।
  • अल्‍प आय वर्गों और झुग्गियों में रहने वाले परिवारों के बच्‍चों को प्रोत्‍साहन 250 रु. प्रति माह ताकि उन बच्‍चों के नए नामांकन किए जा सकें जो अभी तक कहीं पढ़ाई नहीं कर रहे हैं।

प्रशासन

विधानसभा परिसर, चंडीगढ़
  • चंडीगढ़ प्रशासन संविधान की धारा 239 के अंतर्गत नियुक्त किये गए प्रशासक के अधीन कार्यरत है।
  • शहर का प्रशासनिक नियंत्रण भारत सरकार के गृह मंत्रालय के पास है।
  • वर्तमान में पंजाब के राज्यपाल ही चंडीगढ़ के प्रशासक होते हैं।
  • प्रशासक का सलाहकार एक अखिल भारतीय सेवाओं से नियुक्त अति-वरिष्ठ अधिकारी होता है। ये अधिकारी प्रशासक के बाद सर्वे-सर्वा होता है। इस अधिकारी का स्तर भारतीय प्रशासनिक सेवा में ए.जी.एम.यू कैडर का होता है।
  • उपायुक्त: भारतीय प्रशासनिक सेवा का अधिकारी जो चंडीगढ़ के सामान्य प्रशासन की देखरेख करता है।
  • वन उपसंरक्षक, भारतीय वन सेवा का अधिकारी है, जो वन्य प्रबंधन, पर्यावरण, वन्य-जीवन एवं प्रदूषण नियंत्रण के लिए उत्तरदायी होता है।
  • वरिष्ठ अधीक्षक (पुलिस), भारतीय पुलिस सेवा का अधिकारी, जो शहर में विधि एवं न्याय व्यवस्था बनाये रखने एवं संबंधित विषयों के लिए उत्तरदायी होता है।
  • उपरोक्त तीनों अधिकारी अखिल भारतीय सेवाओं के ए.जी.एम.यू, हरियाणा या पंजाब कैडर से होते हैं।

नगर निगम

  • चंडीगढ़ नगर निगम ने 28 करोड़ रु. की लागत से डिगियन में मल जल उपचार संयंत्र का उन्‍नयन किया है। नगर निगम को पानी की आपूर्ति तथा सीवेज / ड्रेनेज सेवाओं में प्रथम पुरस्‍कार भारत सरकार की ओर से दिया गया, जिसे भारत के प्रधानमंत्री ने प्रदान किया।
  • पानी की आपूर्ति पर नज़र और निगरानी रखने के लिए 700 करोड़ रु. की लागत से पर्यवेक्षण नियंत्रण रखने के लिए 700 करोड़ रु. की लागत से एक आंकड़ा अधिग्रहण प्रणाली लगाई गई है। इससे बिजली की खपत में कमी आएगी और प्रति वर्ष प्रचालन तथा अनुरक्षण लागत में 3 करोड़ रु. की बचत होगी।
  • पीने के पानी की बचत और दृश्‍यावली के लिए अतिरिक्‍त पानी हेतु छत्तीस करोड़ रु. की परियोजना ली गई है। इस परियोजना से 10 एमजीबी तृतीयक जल का उत्‍पादन किया जाएगा। सेक्‍टर 15 में मौजूदा धोबी घाट को स्‍वचालित लॉन्‍ड्री माट में बदल दिया गया है, जो भारत में अपने प्रकार का एक अनोखा है।
  • शहर की सुंदरता को बढ़ाने के लिए पर्यावरण का और भी उन्‍नयन किया गया है। नगर निगम में 30.00 करोड़ रु. की लागत से 10 एकड़ भूमि में दादू माजरा में एक ठोस अपशिष्‍ट प्रसंस्‍करण संयंत्र स्‍थापित किया है।
चण्‍डीगढ़

पर्यटन

केपिटल कॉम्प्लेक्स

इस परिसर में हरियाणा और पंजाब के अनेक प्रशासनिक भवन हैं। विधानसभा, उच्च न्यायालय और सचिवालय आदि इमारतें यहाँ हैं। यह परिसर समकालीन वास्तुशिल्प का एक बहुत सुन्दर उदाहरण है। यहाँ का ओपन हैंड स्मारक कला का उत्तम नमूना है।

पिंजौर रॉक गार्डन

रॉक गार्डन, चंडीगढ़

चंडीगढ़ आने वाले पर्यटकों को रॉक गार्डन अवश्य देखना चाहिए। इस गार्डन का निर्माण श्री नेकचंद ने किया था। इसे बनवाने में औद्योगिक और शहरी कचरे का इस्तेमाल किया गया है। पर्यटकों के लिए यहाँ मूर्तियों, मंदिरों, महलों आदि का आकर्षण है। हर साल इस उद्यान को देखने हज़ारों पर्यटक आते हैं। उद्यान में झरनों और जलकुंड के अलावा ओपॅन एयर थियेटर भी देखा जा सकता, जहाँ अनेक प्रकार की सांस्कृतिक गतिविधियां होती हैं।

रोज़ गार्डन

'ज़ाकिर हुसैन रोज़ गार्डन' के नाम से विख्यात यह उद्यान एशिया का सबसे बड़ा रोज़ गार्डन है। यहाँ गुलाब की 1600 से भी अधिक किस्में हैं। उद्यान को बहुत सुन्दरता से डिजाइन किया गया है। अनेक प्रकार के रंगीन फ़व्वारे इसकी सुंदरता को बढ़ाते हैं। हर साल यहाँ गुलाब पर्व आयोजित होता है। श्री रंधावा ने ही चीफ इंजीनियर और आर्किटेक्ट के साथ मिलकर इस रोज़ गार्डन को ऐसा रूप दिया कि यह गार्डन एक घाटी का आभास देता है। अब यह सुबह की सैर के लिए बेहतरीन सैरगाह है। रोज़ गार्डन में हर वर्ष रोज़ फेस्टिवल नाम से एक भव्य मेले का आयोजन किया जाता है जिसमें सांस्कृतिक संध्या के अतिरिक्त दिन भर रोज़ मेले में बच्चों के लिए मिस रोज़, मिस्टर रोज़ और विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। प्रतिवर्ष लगने वाले इस रोज़ फेस्टिवल में आने वाले 40 हज़ार से अधिक लोगों के उत्साह को देखकर फूलों और बागों के प्रति चंडीगढ़ वासियों के प्रेम को समझा जा सकता है।

सुखना झील

यह मानव निर्मित झील 3 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में है। इसका निर्माण 1958 में हुआ था। अनेक प्रवासी पक्षियों का यहाँ आना होता है। झील में बोटिंग का आनंद लेते समय दूर-दूर फैली पहाड़ियों के सुंदर नज़ारों के साथ-साथ सूर्यास्त का नज़ारा भी यहाँ बड़ा मनमोहक दिखाई देता है। कार्बूजिए ने शिवालिक की पहाड़ियों के दामन में बहते बरसाती बड़े नदी जैसे चौ पलाली का रो (नाला) और सुखना चौ पर इस प्रकार बांध बनाया जिससे बरसाती पानी शहर में न फैले। उस बांध पर चालीस फुट का एक पैदल रास्ता बनाया गया। इसके चारों ओर पेड़-पौधों को बड़ी संख्या में लगाया गया है। यहाँ कटावदार सीढ़ियां हैं किन्तु यह आम रास्ता नहीं है। यह उम्दा और ख़ूबसूरत सैरगाह है जो नगरवासियों के साथ-साथ पर्यटकों के लिए भी यह आकर्षण का केंद्र है।

सुखना झील, चंडीगढ़

इस प्रकार सेक्टरों में बंटे चंडीगढ़ नगर के पहले सेक्टर का निर्माण हुआ जो एक झील के नाम से विख्यात हुआ। शहर के प्रमुख टाउन प्लानर नरेन्द्र सिंह लांबा और चीफ इंजीनियर जे.सी. वर्मा ने सुखना झील को इस प्रकार बनवाया कि यह चंडीगढ़ के निवासियों की मनपसंद सैरगाह बन गयी। आज भी सुबह-शाम के समय यहाँ लोगों को सैर करते देखा जा सकता है। सन 1958 में बनी तीन कि.मी. लंबी इस झील के आसपास 2452 हेक्टेयर ज़मीन पर पेड़-पौधों की हरियाली है कि डूबते सूर्य और उमड़ते- घुमड़ते बादलों के झुरमुट को पर्यटक अपने कैमरे में क़ैद कर लेने को सदैव तत्पर रहते हैं।

आम फ़ॅस्टिवल

सुखना झील पर हर वर्ष आम फ़ॅस्टिवल का आयोजन किया जाता है। कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन के अलावा सावन की तीज के झूले भी यहाँ पड़ते हैं। चंडीगढ़ आने वाले पर्यटकों का यह सर्वाधिक प्रिय स्थल है। सायबेरियन पक्षियों की सर्दियों की शरणस्थली सुखना झील में मोटरबोटिंग की सख्त मनाही है, लेकिन नौका विहार, स्कीइंग और पानी के अन्य खेल यहाँ खेले जा सकते हैं।

लॅश्ज़र वैली

सेक्टर-10 में 20 एकड़ भूमि में फैली है यह घाटी। यहाँ वोगनवेला की 3000 से भी अधिक किस्में देखी जा सकती हैं। यहाँ हर वर्ष वोगनविला शो का आयोजन भी किया जाता है। सेक्टर 10 में ही स्थित 'गवर्नमेंट म्यूज़ियम' और आर्ट गैलरी भी यहाँ आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। इस संग्रहालय में गांधार शैली की बौद्धकालीन प्रतिमाओं के अलावा राजपुर, कांगड़ा, पहाड़ी और मुग़ल शैली की कलाकृतियां भी देखी जा सकती हैं।

बॉटेनिकल गार्डेन

सुखना झील और रॉक गार्डन के बीचोबीच 88 एकड़ भूमि पर बना है वनस्पति जगत् का यह अनुपम गार्डन जो पेड़-पौधों में रुचि रखने वालों के लिए अच्छा पर्यटन स्थल है।

रॉक गार्डन

सेक्टर एक में मौजूद यह गार्डन एक व्यक्ति के एकल प्रयास का अनुपम और उत्कृष्ट नमूना है, जो दुनिया भर में अपने अनूठे उपक्रम के लिए बहुत सराहा गया है। रॉक गार्डन के निर्माता नेकचंद एक कर्मचारी थे जो दिन भर साइकिल पर बेकार पड़ी ट्यूब लाइट्स, टूटी-फूटी चूडि़यों, प्लेट, चीनी के कप, फ्लश की सीट, बोतल के ढक्कन व किसी भी बेकार फेंकी गई वस्तुओं को बीनते रहते और उन्हें यहाँ सेक्टर एक में इकट्ठा करते रहते। धीरे-धीरे फुर्सत के क्षणों में लोगों द्वारा फेंकी गई फ़ालतू चीज़ों से ही उन्होंने ऐसी उत्कृष्ट आकृतियों का निर्माण किया कि देखने वाले दंग रह गए। नेकचंद के रॉक गार्डन की कीर्ति अब देश-विदेश के कलाप्रेमियों के दिलों में घर कर चुकी हैं।

संग्रहालय

चंडीगढ़ में अनेक संग्रहालय हैं। यहाँ का सरकारी संग्रहालय और कला दीर्घा में गांधार शैली की अनेक मूर्तियों का संग्रह है। यह मूर्तियां बौद्ध काल से संबंधित हैं। संग्रहालय में अनेक लघु चित्रों और प्रागैतिहासिक कालीन जीवाश्म को भी रखा गया है। अन्तर्राष्ट्रीय डॉल्स म्युजियम में दुनिया भर की गुडियाओं और कठपुतियों को रखा गया है।

सुखना वन्यजीव अभयारण्य

लगभग 2600 हेक्टेयर में फैले इस अभयारण्य में बड़ी संख्या में वन्यजीव और वनस्पतियां पाई जाती हैं। मूल रूप से यहाँ पाए जाने वाले जानवरों में बंदर, खरगोश, गिलहरी, साही, सांभर, भेड़िए, जंगली सूकर, जंगली बिल्ली आदि शामिल हैं। इसके अलावा सरीसृपों की अनेक प्रजातियां यहाँ हैं। अभयारण्य में पक्षियों की विविध प्रजातियों भी पायी जाती है।

चंडिका देवी

शक्ति की देवी चंडिका देवी का मंदिर जो कालका-चंडीगढ़ मार्ग पर स्थित है, हिंदुओं की प्रिय धर्मस्थली है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

वीथिका

टीका-टिप्पणी और संदर्भ

  1. 2001 की जनगणना के अनुसार
  2. लेफ्टीनेंट गवर्नर तथा प्रशासक (हिंदी) भारत की आधिकारिक वेबसाइट। अभिगमन तिथि: 15 मार्च, 2017।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चंडीगढ़&oldid=597307" से लिया गया