चक्रव्यूह  

चक्रव्यूह की रचना

चक्रव्यूह का उल्लेख हिन्दू पौराणिक ग्रंथ महाभारत में हुआ है। इस व्यूह की रचना गुरु द्रोणाचार्य ने युद्ध के तेरहवें दिन की थी।


  • अर्जुन के अतिरिक्त और कोई भी चक्रव्यूह भेदन नहीं जानता था।
  • युधिष्ठिर को बंदी बनाने के लिए चक्रव्यूह की रचना की गयी थी।
  • दुर्योधन इस चक्रव्यूह के बिलकुल मध्य में था।
  • इस व्यूह में बाकी सात महारथी व्यूह की विभिन्न परतों में थे।
  • व्यूह के द्वार पर जयद्रथ था।
  • अभिमन्यु ही इस व्यूह को भेदने में सफल हो पाया पर वो अंतिम द्वार को पार नहीं कर सका तथा बाद में सात महारथियों द्वारा उसकी हत्या कर दी गयी।[1]


  • महाभारत युद्ध में पांडवों और कौरवों द्वारा रचे गए व्यूह निम्न थे-
  1. वज्र व्यूह
  2. क्रौंच व्यूह
  3. अर्धचन्द्र व्यूह
  4. मंडल व्यूह
  5. चक्रशकट व्यूह
  6. मगर व्यूह
  7. औरमी व्यूह
  8. गरुड़ व्यूह
  9. श्रीन्गातका व्यूह


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

महाभारत शब्दकोश |लेखक: एस. पी. परमहंस |प्रकाशक: दिल्ली पुस्तक सदन, दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 46 |

  1. महाभारत का चक्रव्यूह तथा दूसरे व्यूह Dev Rana=हिन्दी। अभिगमन तिथि: 8 जनवरी, 2016।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चक्रव्यूह&oldid=548071" से लिया गया