चतुर्दशी  

  • सूर्य से चन्द्र का अन्तर जब 157° से 168° तक होता है, तब शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी और 337° से 348° तक कृष्ण चतुर्दशी रहती है।
  • चतुर्दशी के स्वामी भगवान शिव हैं।
  • चतुर्दशी तिथि के रिक्ता संज्ञक होने से दोनों पक्षों की चतुर्दशी में समस्त शुभ कार्य त्याज्य है। इसीलिये इसे ‘क्रूरा’ कहा गया है।
  • चतुर्दशी तिथि की दिशा पश्चिम है।
  • गर्ग संहिता के मत से-

उग्रा चतुर्दशी विन्द्याद्दारून्यत्र कारयेत्।
बन्धनं रोधनं चैव पातनं च विशेषतः।।

  • चतुर्दशी तिथि को शिव का पूजन व व्रत उत्तम रहता है।
  • चतुर्दशी की अमृतकला को स्वयं भगवान शिव ही पीते हैं।
  • विशेष – चतुर्दशी तिथि चन्द्रमा ग्रह की जन्म तिथि है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चतुर्दशी&oldid=469170" से लिया गया