चित्तू पाण्डे  

  • चित्तू पाण्डे गांधीजी के परम भक्त थे तथा स्वयं को गांधीवादी कहते थे।
  • चित्तू पाण्डे ने राष्ट्रीय आन्दोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया।
  • उनका सबसे अधिक योगदान भारत छोड़ो आन्दोलन में रहा।
  • इस आन्दोलन के दौरान पाण्डे ने बलिया में प्रथम समानान्तर सरकार की स्थापना की थी।
  • उनकी सरकार ने कलक्टर से सभी अधिकार छीन लिये तथा सभी बन्दी कांग्रेसी नेताओं को रिहा कर दिया गया, तथापि उनकी यह सरकार अधकि समय तक कार्य न कर सकी।
  • एक सप्ताह बाद जब ब्रिटिश सैनिक बलिया पहुंचे, तो वहां उन्हें चित्तू पाण्डे सहित एक भी नेता नहीं मिला।
  • इसके बाद भी वे राष्ट्रीय मुक्ति के लिये संघर्ष करते रहे।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

नागोरी, डॉ. एस.एल. “खण्ड 3”, स्वतंत्रता सेनानी कोश (गाँधीयुगीन), 2011 (हिन्दी), भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: गीतांजलि प्रकाशन, जयपुर, पृष्ठ सं 150।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चित्तू_पाण्डे&oldid=175890" से लिया गया