चेन्नई  

चेन्नई
Chennai-Colaj.jpg
विवरण चेन्नई शहर (भूतपूर्व मद्रास), तमिलनाडु राज्य की राजधानी, दक्षिणी भारत, बंगाल की खाड़ी के कोरोमण्डल तट पर स्थित है। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई भारत के चार महानगरों में से एक है।
राज्य तमिलनाडु
ज़िला चेन्नई ज़िला
स्थापना 17वीं शताब्दी
भौगोलिक स्थिति उत्तर- 13.04°, पूर्व- 80.17°
मार्ग स्थिति यह शहर सड़क द्वारा महाबलीपुरम से 60.7 किलोमीटर, वेल्लोर से 113 किलोमीटर, कन्याकुमारी से 699 किलोमीटर, दिल्ली से 2,141 किलोमीटर दूरी पर स्थित है।
कब जाएँ नवम्बर से फ़रवरी
कैसे पहुँचें जलयान, हवाई जहाज़, रेल, बस आदि से पहुँचा जा सकता है।
हवाई अड्डा चेन्नई अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा
रेलवे स्टेशन चेन्नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन, चेन्नई एगमोर रेलवे स्टेशन
बस अड्डा मेट्रोपॉलिटन ट्रांस्पोर्ट कार्पोरेशन, चेन्नई मोफस्सिल बस टर्मिनस
यातायात साइकिल-रिक्शा, ऑटो-रिक्शा, मीटर-टैक्सी, सिटी बस और मेट्रो रेल
क्या देखें चेन्नई पर्यटन
कहाँ ठहरें होटल, धर्मशाला, अतिथि ग्रह
क्या खायें इडली, सांभर और डोसा
क्या ख़रीदें साड़ियाँ, शिल्प की ख़रीददारी और समकालीन कला के लिए रामास्वामी रोड पर स्थित सी.पी. जा सकते हैं।
एस.टी.डी. कोड 044
ए.टी.एम लगभग सभी
Map-icon.gif गूगल मानचित्र, चेन्नई अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा
अद्यतन‎

चेन्नई शहर (भूतपूर्व मद्रास), तमिलनाडु राज्य की राजधानी, दक्षिणी भारत, बंगाल की खाड़ी के कोरोमण्डल तट पर स्थित है। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई भारत के चार महानगरों में से एक है। समुद्र किनारे बसे इस शहर में बंदरगाह भी है और इसे पहले मद्रास के नाम से जाना जाता था। मद्रास मछुआरे के गाँव मद्रासपटनम का छोटा रूप था। जहाँ ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने 1639-40 में एक क़िले और व्यापारिक चौकी का निर्माण किया था। उस समय सूती कपड़े की बुनाई एक स्थानीय उद्योग था और अंग्रेज़ों ने बुनकरों तथा स्थानीय व्यापारियों को क़िले के आसपास बसने के लिए बुलाया। 1652 तक फ़ोर्ट सेंट जार्ज फ़ैक्ट्री को प्रेज़िडेंसी[1] की प्रतिष्ठा मिल गई और 1668 और 1749 के बीच कम्पनी ने अपने नियंत्रण का विस्तार किया। 1801 के लगभग अन्तिम स्थानीय शासक से उसकी शक्तियाँ छीन ली गईं और अंग्रेज़ दक्षिण भारत के स्वामी बन गए। तब मद्रास उनकी प्रशासकीय तथा व्यापारिक राजधानी बन गया।

मद्रास (वर्तमान चेन्नई) का एक दृश्य

चेन्नई का मरीना बीच विश्व का दूसरा सबसे बड़ा बीच है। यह शहर शिष्टाचार, सौम्यता और सभ्यता का प्रतीक है। अनेक मंदिर, क़िले, चर्च, पार्क, बीच, मस्जिद इस शहर की ख़ूबसूरती में चार चाँद लगाते हैं। इसे दक्षिण का गेटवे कहा जाता है। यह शहर दक्षिण की फ़िल्म इंडस्ट्री का हब भी है। चेन्नई ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा स्थापित प्रथम बंदोबस्त का शहर था।

स्थापना

चेन्नई ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा स्थापित प्रथम बंदोबस्त का शहर था। उन दिनों चेन्नई को टोन्डेमंडलम के नाम से जाना जाता था। उस समय का सैन्‍य मुख्यालय पजहल में था। वर्तमान मे अब यह शहर के बाहरी छोर पर स्थित एक छोटे से महत्वहीन गांव में तब्‍दील हो चुका है। उन्नीसवीं शताब्दी में यह शहर मद्रास प्रेजीडेन्सी के नाम से जाना गया। यह शहर ब्रिटिश साम्राज्य का दक्षिणी मंडल था। आज़ादी के बाद मद्रास को तमिलनाडु की राजधानी बना दिया गया।

सन 1639 ई. में ईस्ट इंडिया कंपनी के कर्मचारी फ़्रांसिस डे ने विजयनगर के राजा से कुछ भूमि लेकर इस नगर की स्थापना की थी। उस समय का बना हुआ क़िला अभी तक विद्यमान है। मद्रास के उपनगर मायलापुर में कपालीश्वर शिव का प्राचीन मंदिर है। मायलापुर का शाब्दिक अर्थ मयूरनगर है। पौराणिक जनश्रुति के अनुसार पार्वती ने मयूर का रूप धारण करके शिव जी की इस स्थान पर पूजा की थी। इसी कथा का अंकन इस मंदिर की मूर्तिकारी में है। मंदिर के पीछे एक पवित्र ताल है। ट्रिप्लीकेन में पार्थसारथी का मंदिर भी उल्लेखनीय है। मद्रास के स्थान पर प्राचीन समय में चैन्नापटम् नामक ग्राम बसा हुआ था।

इतिहास

मद्रास का विकास बिना किसी योजना के 17वीं शताब्दी के भारतीय आवासों और क़िले के चारों ओर हुआ। इसके उत्तर तथा पश्चिमोत्तर में औद्योगिक क्षेत्र हैं। मुख्य आवासीय क्षेत्र पश्चिम तथा दक्षिण में और पुराने गाँव मध्य भाग में हैं। द्रविड़ शैली में बने सात बड़े मन्दिर शहर के सबसे विशिष्ट भवन हैं। जो जार्ज टाउन, मायलापोर और ट्रिप्लीकेन में स्थित हैं। 19वीं शताब्दी में यह शहर मद्रास प्रेज़ीडेन्सी के नाम से जाना गया। यह शहर ब्रिटिश साम्राज्य का दक्षिणी मंडल था। आज़ादी के बाद मद्रास को तमिलनाडु की राजधानी बना दिया गया। हाल ही में इसका नाम बदलकर चेन्नई रख दिया गया। ब्रिटिश काल की इमारतों में, चेपक पैलेस, यूनिवर्सिटी सीनेट हाउस[2], विक्टोरिया टेक्निकल इंस्टिट्यूट और उच्च न्यायालय भवन[3] सबसे आकर्षण माने जाते हैं। कई आधुनिक ऊँची इमारतें भी बन गई हैं।

अर्थव्यवस्था

चेन्नई शहर दक्षिण भारत की व्यावसायिक गतिविधियों का केन्द्र है। सॉफ्टवेयर टेक्‍नोलॉजी पार्क, टाइडैल की स्‍थापना थारामणि, चेन्नई में की गई है। वर्ष 2006-07 में राज्‍य से, 20,700 करोड़ रुपए का निर्यात हुआ जो 2007-08 में 25,000 करोड़ रुपए हो जाएगा। नोकिया, मोटोरोला, फॉक्‍सकॉम, फ्लैक्‍सट्रॉनिक और डैल जैसी बड़ी सूचना प्रौद्योगिकी और दूरसंचार कंपनियां यहाँ उत्‍पादन कर रही हैं।

अंतर्राष्‍ट्रीय ऑटो कंपनी

अंतर्राष्‍ट्रीय ऑटो कंपनी हुंडई मोटर्स, फोर्ड, हिंदुस्‍तान मोटर्स और मित्‍सीबिशी ने तमिलनाडु में उत्‍पादन इकाइयां शुरू की हैं। अशोक लेलैंड और ताफे ने चेन्नई में विस्‍तार संयंत्र लगाए हैं।

उद्योग और व्यापार

चेन्नई के उद्योगों में वाहन उद्योग, एक विद्युत अभियांत्रिकी कारख़ाना, रबरउर्वरक कारख़ाने और एक तेल शोधन कारख़ाना शामिल है। चमड़ा, लौह अयस्क और सूती वस्त्र चेन्नई से निर्यात की जाने वाली मुख्य वस्तुएँ हैं। गेहूँ, मशीनें, लोहा तथा इस्पात और कपास का आयात किया जाता है। चेन्नई के उद्योगों में सूती वस्त्र उद्योग, रासायनिक उद्योग, काग़ज़ एवं काग़ज़ से निर्मित वस्तुओं के उद्योग, मुद्रण यंत्र एवं इससे सम्बन्धित उद्योग, चमड़ा, डीजल इंजन, मोटरगाड़ी, साइकिल, सीमेंट, चीनी, दियासलाई, रेल के डिब्बे तैयार करने के उद्योग आदि प्रमुख हैं।

प्रशासन

नाँव, चेन्नई

चेन्नई, तमिलनाडु राज्य की राजधानी होने से राज्य की कार्यपालिका और न्यायपालिका के मुख्यालय शहर में मुख्य रूप से फोर्ट सेंट जॉर्ज में सचिवालय इमारत में और शेष कार्यालय शहर में विभिन्न स्थानों पर अनेक इमारतों में स्थित हैं। मद्रास उच्च न्यायालय का अधिकार-क्षेत्र तमिलनाडु राज्य और पुदुचेरी तक है। यह राज्य की सर्वोच्च न्याय संस्था है, और चेन्नई में ही स्थापित है। चेन्नई में तीन लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र हैं:-

  1. चेन्नई उत्तर
  2. चेन्नई मध्य
  3. चेन्नई दक्षिण

चेन्नई में 18 विधान-सभा निर्वाचन क्षेत्र हैं।

शिक्षण संस्थान

चेन्नई में अनेक शिक्षण संस्थाएँ हैं। राज्य चिकित्सा महाविद्यालयों, अभियांत्रिकी एवं तकनीकी महाविद्यालयों, कॉलेज आफ़ कर्नाटिक म्यज़िक, कॉलेज आफ़ आटर्स एण्ड क्राफ़्ट्स और शिक्षक–प्रशिक्षण महाविद्यालयों में व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त की जा सकती है।
मद्रास विश्वविद्यालय, चेन्नई
University Of Madras, Chennai
मद्रास विश्वविद्यालय, 1857 भी इसी शहर में स्थित है। जिसमें कई आधुनिक शोध केन्द्र हैं। यहाँ पर इंडियन इंस्टिट्यूट आफ़ टेक्नोलाजी, सेन्ट्रल लेदर रिसर्च इंस्टिट्यूट और वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसन्धान परिषद की क्षेत्रीय प्रयोगशालाएँ आदि अनेक उल्लेखनीय वैज्ञानिक संस्थाएँ हैं। कृषि विकास के क्षेत्र में एम. एस. स्वामीनाथन रिसर्च फ़ाउडेशन एक अग्रणी संस्थान है।

नृत्य और संगीत संस्थान

सांस्कृतिक संस्थाओं में मद्रास संगीत अकादमी शामिल है, जो कर्नाटक संगीत[4] को प्रोत्साहन देने के लिए समर्पित है। कलाक्षेत्र नृत्य और संगीत का केन्द्र है तथा मायलापोर स्थित रसिक रंजिनी सभा रंगमंचीय कलाओं को प्रोत्साहन देती है। एक उपनगरीय क्षेत्र, कोडमबक्कम, अपने कई फ़िल्म स्टूडियो के कारण दक्षिणी भारत का हालीवुड कहलाता है। तीन रंगशालाएँ–

  • चिल्ड्रन्स थिएटर,
  • अन्नामलाई मनरम और
  • 'म्यूज़ियम थिएटर' प्रसिद्ध हैं।

यातायात और परिवहन

चेन्नई जाने के लिए पर्यटक अपनी सुविधा के अनुसार रेल, वायु या सड़क मार्ग द्वारा जा सकते हैं। अन्ना अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भारत का तीसरा व्यस्ततम विमानक्षेत्र है। चेन्नई देश के अन्या भागों से सड़क और रेल द्वारा भली-भांति जुड़ा हुआ है।

हवाई मार्ग

चेन्नई में अन्ना अर्न्‍तराष्‍ट्रीय हवाईअड्डा है। चेन्नई शहर दक्षिण एशिया, दक्षिण-पूर्व एशिया, पूर्वी एशिया, मध्य पूर्व, यूरोप एवं उत्तरी अमरीका के प्रधान बिन्दुओं पर 30 से अधिक राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय विमान सेवाओं से जुड़ा हुआ है। चेन्नई में अन्ना अर्न्‍तराष्‍ट्रीय हवाईअड्डा एवं कामराज अन्तर्देशीय हवाईअड्डा सहित चेन्नई अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भारत का तीसरा व्यस्ततम विमानक्षेत्र है। यह वायु मार्ग द्वारा बंगलोर, कोलकाता, मुम्बई, दिल्ली, हैदराबाद आदि देश के विभिन्न शहरों से जुड़ा हुआ है।

एगमोर रेलवे स्टेशन, चेन्नई
रेल मार्ग

चेन्नई दक्षिण रेलवे का मुख्यालय है। चेन्नई में तीन रेलवे स्टेशन स्थित हैं। सेन्ट्रल, एगमोर और तम्बारम के रेलवे स्टेशन। यह रेलवे स्टेशन भारत के प्रमुख शहरों और राज्यों से जुड़े हुए हैं। चेन्नई देश के अन्य भागों से रेल द्वारा भी भली-भांति जुड़ा हुआ है। चेन्नई शहर में दो मुख्य रेलवे स्टेशन हैं:-

  1. चेन्नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन: यहाँ से सभी बड़े शहरों जैसे मुंबई, कोलकाता, बंगलुरु, दिल्ली, हैदराबाद, कोच्चि, कोयंबतूर, तिरुवनंतपुरम, आदि के लिए रेल-सुविधा उपलब्ध हैं।
  2. चेन्नई एगमोर रेलवे स्टेशन यहाँ से प्रायः तमिलनाडु के अनेक शहरों की रेल सेवाएँ उपलब्ध हैं। कुछ निकटवर्ती राज्य के शहरों की भी रेलगाड़ियाँ यहाँ से चलती हैं।
एगमोर रेलवे स्टेशन, चेन्नई
सड़क मार्ग

चेन्नई मोफस्सिल बस टर्मिनस अन्तर्राज्यीय बस सेवाओं का अड्डा है। यह एशिया का सबसे बड़ा बस अड्डा है। चेन्नई राष्ट्रीय राजमार्ग 4 से बैंगलोर से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग 5 हैदराबाद और पूर्वी तटीय रोड पांडिचेरी से जुड़ा है। इसके अलावा अन्‍य पड़ोसी राज्‍यों से भी यहाँ बस द्वारा आ सकते हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग चेन्नई को 5 मुख्य शहर तिरुवल्लूर, कोलकाता, मुंबई, तिरुचिरापल्ली, तिंडिवनम और पुदुचेरी से जोड़ते हैं।

बंदरगाह

चेन्नई शहर में दो प्रधान सागरपत्तन (बंदरगाह) हैं, चेन्नई पोर्ट जो सबसे बडे कृत्रिम बंदरगाहों में एक है, तथा एन्नोर बंदरगाह। चेन्नई पोर्ट बंगाल की खाड़ी में सबसे बड़ा बंदरगाह और भारत का दूसरा सबसे बड़ा सागरीय-व्यापार केन्द्र है, जहाँ ऑटोमोबाइल, मोटरसाइकिल, सामान्य औद्योगिक माल और अन्य थोक खनिज की आवाज़ाही होती है।

स्थानीय साधन

चेन्नई शहर में ऑटोरिक्शा, निजी वाहन और बस व रेल सेवाएँ स्थानीय परिवहन उपलब्ध कराती हैं। चेन्नई शहर के बहुत से मार्गों पर मैक्सी कैब नाम से वैन और सवारी भाड़े पर ऑटोरिक्शा भी चलते हैं, जो बस सेवा का विकल्प देते हैं। चेन्नई की यातायात संरचना अच्छा संपर्क उपलब्ध कराती हैं।

नेशनल आर्ट गैलरी, चेन्नई
National Art Gallery, Chennai

पर्यटन

मरीना बीच, चेन्नई
Marina Beach, Chennai

भारत के चारों मैट्रो शहरों में से एक यह शहर सबसे छोटा ज़रूर है लेकिन पर्यटन के लिहाज़ से किसी से कम नहीं है। चेन्नई में अनेक ऐसे दर्शनीय स्थल हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं।

संग्रहालय

मद्रास शासकीय संग्रहालय में इतिहास और तमिलनाडु के भौतिक पक्षों का प्रदर्शन किया गया है। 'फ़ोर्ट म्यूज़ियम' में ईस्ट इंडिया कम्पनी की पुरानी वस्तुओं का लघु संग्रह है तथा नेशनल आर्ट गैलरी में चित्रों का संग्रह है।

कला और संस्कृति

चेन्नई अपनी कला और संस्कृति की समृद्ध विरासत के साथ एक समृद्ध शहर है। चेन्नई अपने विभिन्न सांस्कृतिक आयोजनों के लिए प्रसिद्ध है, प्रदर्शन नृत्य, संगीत, नाटक, समुद्र तटों और प्रमुख के रूप में प्रदर्शन कला आधुनिक थिएटर है। चेन्नई सांस्कृतिक रूप से समृद्ध है, यहाँ वार्षिक मद्रास म्यूज़िक सीज़न में सैंकड़ॊ कलाकार भाग लेते हैं। चेन्नई में रंगशाला संस्कृति भी अच्छे स्तर पर है और यह भरतनाट्यम का एक महत्त्वपूर्ण केन्द्र है। यहाँ का तमिल चलचित्र उद्योग, जिसे कॉलीवुड भी कहते हैं, भारत का द्वितीय सबसे बड़ा फ़िल्म उद्योग केन्द्र है। बगीचों एवं पार्कों की अधिकता के कारण चेन्नई को हरा शहर (ग्रीन सीटी) कहते हैं।

चेन्नई शहर के उत्सवों में जनवरी माह में आने वाला पंच-दिवसीय पोंगल प्रमुख है। इसके अलावा सभी मुख्य त्यौहार जैसे दीपावली, ईद, क्रिसमस आदि भी हर्षोल्लास से मनाये जाते हैं। तमिलनाडु का संगीत महोत्‍सव चेन्नई में दिसंबर में मनाया जाता है। इसमें कर्नाटक संगीत की महान् और अमूल्‍य पंरपरा का निर्वाह किया जाता है और इस समारोह में नए और पुराने कलाकारों द्वारा संगीत और नृत्‍य की अविस्‍मरणीय प्रस्तुतियाँ पेश होती हैं।

तमिल व्यंजनों में शाकाहारी और मांसाहारी दोनों ही व्यंजनों का सम्मिलन है। शहर में विभिन्न स्थानों पर अल्पाहार या टिफिन भी उपलब्ध है, जिसमें पोंगल, दोसा, इडली, वड़ा, आदि मिलते हैं, जिसको गर्मा गर्म या ठंडी कॉफी के साथ परोसा जाता है।

संथोम कैथोड्रल बेसीलिका, चेन्नई
Santhome Cathedral Basilica, Chennai

खानपान

चेन्नई में हर प्रकार के भोजन उपलब्ध हैं। चेन्नई में विशेषकर दक्षिण भारतीय व्यंजन इडली, सांभर और डोसा अधिक मिलता है। चेन्नई में आनंद भवन दक्षिण भारतीय भोजन के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा चेन्नई में लेबेनीस, कोरियन, चाइनीज, जापानी, मैक्सिकन, इटालियन और थाई भोजन विभिन्न होटलों में उपलब्ध है। चेन्नई में मिठाईयों के लिए श्री कृष्णा स्वीट्स बहुत लोकप्रिय है। चेन्नई में मीठी रसीली जानग्री टी नगर की इलूर लाइब्रेरी के समीप मिलती है। यह बहुत स्वादिष्ट होती है।

ख़रीददारी

चेन्नई में साड़ियाँ बहुत अच्छी मिलती हैं। चेन्नई का मशहूर पजहई नल्ली चिन्नास्वामी चेट्टी स्थान साड़ियों के प्रसिद्ध है। चेन्नई में मेलापुर की सन्नाधि गली में सौ साल पुराना राधा सिल्क हाउस है। टी.नगर के उत्तरी उसमान रोड पर स्थित तरूनी लोक सिल्क भी साड़ियों की ख़रीददारी के लिए महत्त्वपूर्ण स्थान है। यहाँ से साड़ियों के अतिरिक्त पुरुषों के कुरते और फोक्स की ज्वैलरी भी ख़रीदी जा सकती है। टी.नगर को दुल्हनों का स्वर्ग कहा जाता है। शिल्प की ख़रीददारी और समकालीन कला के लिए रामास्वामी रोड पर स्थित सी.पी. जा सकते हैं। के. बी. दासन रोड पर स्थित विनायग तंजौर चित्रकला दीर्घा पेंटिग्स के लिए अच्छी जगह है। ममलापुरम में पत्थरों पर बनी मूर्तियाँ मिलती हैं। इनके अलावा चेन्नई में अनेक ऐसी चीज़ें मिल जाएंगी जिन्हें पर्यटक ख़रीदे बिना नहीं रह सकते हैं।

जनसंख्या

2001 की गणना के अनुसार चेन्नई की जनसंख्या 42,16,268 है।

वीथिका

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अध्यक्ष द्वारा शासित एक प्रशासकीय इकाई
  2. दोनों दक्कन मुस्लिम शैली में
  3. दोनों भारतीय मुस्लिम शैली में
  4. बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी कोरोमण्डल तट और दक्कन के पठार के बीच स्थित क्षेत्र का प्रसिद्ध संगीत
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख


वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चेन्नई&oldid=598727" से लिया गया