छान्दोग्य उपनिषद  

छान्दोग्य उपनिषद
छान्दोग्य उपनिषद का आवरण पृष्ठ
विवरण 'छान्दोग्य उपनिषद' प्राचीनतम दस उपनिषदों में नवम एवं सबसे बृहदाकार है। नाम के अनुसार इस उपनिषद का आधार छन्द है।
अध्याय 8 (आठ)
प्रकार मुख्य उपनिषद
सम्बंधित वेद सामवेद
संबंधित लेख उपनिषद, वेद, वेदांग, वैदिक काल, संस्कृत साहित्य
अन्य जानकारी सामवेद की तलवकार शाखा में छान्दोग्य उपनिषद को मान्यता प्राप्त है। इसमें दस अध्याय हैं। इसके अन्तिम आठ अध्याय ही छान्दोग्य उपनिषद में लिये गये हैं।

छान्दोग्य उपनिषद (अंग्रेज़ी: Chandogya Upanishad) सामवेदीय छान्दोग्य ब्राह्मण का औपनिषदिक भाग है, जो प्राचीनतम दस उपनिषदों में नवम एवं सबसे बृहदाकार है। सामवेद की तलवकार शाखा में इस उपनिषद को मान्यता प्राप्त है। इसमें दस अध्याय हैं। इसके अन्तिम आठ अध्याय ही इस उपनिषद में लिये गये हैं। यह उपनिषद पर्याप्त बड़ा है। नाम के अनुसार इस उपनिषद का आधार छन्द है। इसका यहाँ व्यापक अर्थ के रूप में प्रयोग किया गया है। इसे यहाँ 'आच्छादित करने वाला' माना गया है। साहित्यिक कवि की भांति ऋषि भी मूल सत्य को विविध माध्यमों से अभिव्यक्त करता है। वह प्रकृति के मध्य उस परमसत्ता के दर्शन करता है। इसमें ॐकार ('ॐ') को सर्वोत्तम रस माना गया है।

प्रथम अध्याय

प्रथम अध्याय में तेरह खण्ड हैं। इनमें 'साम' के सार रूप 'ॐकार' की व्याख्या की गयी है तथा 'ॐकार' की अध्यात्मिक, आधिदैविक उपासनाओं को समझाते हुए विभिन्न स्वरूपों को स्पष्ट किया है। इस अध्याय के प्रथम खण्ड में बताया गया है कि ॐकार सर्वोत्तम रस है। सर्वप्रथम उद्गाता 'ॐ' का उच्चारण करके सामगान करता है। वह बताता है कि समस्त प्राणियों और पदार्थों का रस अथवा सार पृथ्वी है। पृथ्वी का सार जल है, जल का रस औषधियां हैं, औषधियों का रस पुरुष है, पुरुष का रस वाणी है, वाणी का रस साम है और साम का रस उद्गीथ 'ॐकार' है। यह ओंकार सभी रसों में सर्वोत्तम रस है। यह परमात्मा का प्रतीक होने के कारण 'उपास्य' है। जिस प्रकार स्त्री-पुरुष के मिलन से एक-दूसरे की कामनाओं की पूर्ति होती है, उसी प्रकार इस वाणी, प्राण और ऋचा तथा साम (गायन) के संयोग से 'ॐकार' का सृजन होता है। 'ॐकार' अनुभूति-जन्य है, जिसे अक्षरों के गायन से अनुभव किया जाता है। यह अक्षरब्रह्म की ही व्याख्या है।

द्वितीय अध्याय

दूसरे अध्याय में 'साम' को श्रेष्ठता से जोड़ते हुए विभिन्न प्रकार की उपासनाओं का वर्णन किया गया है। इस अध्याय में चौबीस खण्ड हैं। इन खण्डों में 'पंचविध' और 'सप्तविध' साम की उपासना प्रणालियों का वर्णन है। इस अध्याय के प्रथम खण्ड में साम की सम्पूर्ण उपासना को श्रेष्ठ बताया गया है। संसार में जो कुछ भी श्रेष्ठ है, वह 'साम' है। इस प्रकार जो साम की उपासना करते हैं, उन्हें श्रेष्ठ धर्म की शीघ्र प्राप्ति होती है। जबकि दूसरे खण्ड में साम का भाव साधुतापूर्ण-सदाशयतापूर्ण बताया गया है। 'उद्गीथ' ही साम हे। ऊर्ध्व लोकों में पांच प्रकार से साम की उपासना की जाती है। पृथ्वी को 'हिंकार', अग्नि को 'प्रस्ताव,'अन्तरिक्ष को 'उद्गीथ' और आदित्य को 'प्रतिहार' तथा द्युलोक को 'निधन' माना जाता है। इसी प्रकार अधोमुख लोकों में भी पांच प्रकार से साम की उपासना की जाती है। यहाँ स्वर्ग 'हिंकार' है, आदित्य 'प्रस्ताव' है, अन्तरिक्ष 'उद्गीथ' है, अग्नि 'प्रतिहार' है और पृथिवी 'निधन' है। पंचविध साम की उपासना से ऊर्ध्व और अधोलोकों के समस्त भोग सहज प्राप्त हो जाते हैं।

तृतीय अध्याय

इस अध्याय में आदित्य को ही परब्रह्म मानकर विविध रूपकों द्वारा उसके स्वरूप का वर्णन किया गया है। इस अध्याय में 19 खण्ड हैं। पहले से पांचवें तक के खण्ड में बताया गया है कि आदित्य ही परब्रह्म हैं। इन पांच खण्डों में आदित्य के पूर्व, दक्षिण, पश्चिम व उत्तर भागों तथा उर्ध्व में स्थित रसों की व्याख्या मधुमक्खियों के छत्ते के रूपक द्वारा की गयी है। ऋषि का कहना है कि सूर्य के समस्त दृश्य, स्थूल रंगों (सप्तरंग) के साथ सूक्ष्म चेतना प्रवाह से जुड़े हैं। 'ॐकार' रूप यह आदित्य ही देवों का मधु है। समस्त वेदों- ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद- की ऋचाएं ही मधुमक्खियां हैं, चारों वेद पुष्प हैं और सोम ही अमृत-रूप जल है। इस ब्रह्माण्ड में आदित्य की जो दृश्य प्रक्रिया चल रही हे, उसके पीछे चैतन्य का संकल्प अथवा आदेश ही कार्य कर रहा है।

चतुर्थ अध्याय

इस अध्याय में सत्रह खण्ड हैं। प्रथम तीन खण्डों में राजा जनश्रुति और गाड़ीवान रैक्व का संवाद है। उन संवादों के माध्यम से रैक्व राजा जनश्रुति को 'वायु' और 'प्राण' की श्रेष्ठता के विषय में बताता है। चतुर्थ से नवम खण्ड तक जाबाला-पुत्र सत्यकाम की कथा है, जिसमें वृषभ, अग्नि, हंस और जल पक्षी के माध्यम से 'ब्रह्म' का उपदेश दिया गया है और दशम से सत्रहवें खण्ड तक सत्यकाम जाबाल के शिष्य उपकोसल को विभिन्न अग्नियों द्वारा तथा अन्त में आचार्य सत्यकाम द्वारा 'ब्रह्मज्ञान' दिया गया है तथा यज्ञ का ब्रह्मा कौन है, इस ओर संकेत किया है।

पंचम अध्याय

इस अध्याय में 'प्राण' की सर्वश्रेष्ठता एवं पंचाग्नि विद्या का विशद वर्णन किया गया है। साथ ही अग्नि का महत्त्व, जीव की गति, 'आत्मा' पर सत्यकाम जाबाल, श्वेतकेतु और प्रवाहण का संवाद तथा जीवन-जगत के गूढ़तम विषयों का सरल भाष्य प्रस्तुत किया गया है। इस अध्याय में चौबीस खण्ड हैं। इसके प्रथम खण्ड में शरीर में प्राणतत्त्व की सर्वश्रेष्ठता के बारे में बताया गया है। इस शरीर में जो स्थान 'प्राण' का है, वह किसी अन्य इन्द्रिय का नहीं है। एक बार सभी इन्द्रियों में अपनी-अपनी श्रेष्ठता को लेकर विवाद छिड़ गया। तब सभी ने प्रजापति ब्रह्मा से निर्णय जानना चाहा कि सर्वश्रेष्ठ कौन है? इस पर प्रजापति ने कहा कि "तुमसें से जिसके द्वारा शरीर छोड़ देने पर वह निश्चेष्ट हो जाये, वही श्रेष्ठ है।" सबसे पहल वाणी ने, उसके बाद चक्षु ने, फिर कानों ने, फिर मन ने शरीर को बारी-बारी से छोड़ा, किन्तु हर बार शरीर का एक अंग ही निश्चेष्ट हुआ। शेष शरीर सक्रिय बना रहा। जैसे वाणी के जाने से वह गूंगा हो गया, चक्षु के जाने से अन्धा हो गया, कानों के जाने से बहरा हो गया और मन के जाने से बालक-रूप-जैसा हो गया, पर जीवित रहा और अपने सारे कार्य करता रहा, किन्तु जब 'प्राण' जाने लगा, तो सारी इन्द्रियाँ शिथिल होने लगीं। उन्होंने घबराकर प्राण को रोका और उसकी सर्वश्रेष्ठता को स्वीकार कर लिया।

षष्ठ अध्याय

ब्रह्मऋषि आरुणि-पुत्र उद्दालक ने अपने पुत्र श्वेतकेतु को सत्य-स्वरूप 'ब्रह्म' को विविध उदाहरणों द्वारा समझाया था और सृष्टि के सृजन की विधिवत व्याख्या की थी। इस अध्याय में उसी का विवेचन किया गया है। इस अध्याय में सोलह खण्ड हैं। पहले और दूसरे खण्ड में जगत् की उत्पत्ति के विषय में बताया गया है। अपने पुत्र श्वेतकेतु को समझाते हुए ब्रह्मऋषि उद्दालक ने कहा कि सृष्टि के प्रारम्भ में एक मात्र 'सत्' ही विद्यमान था। फिर किसी समय उसने अपने आपकों अनेक रूपों में विभक्त करने का संकल्प किया। उसके संकल्प करते ही उसमें से 'तेज' प्रकट हुआ। तेज में से जल प्रकट हुआं संकल्प द्वारा प्रकट होने वाले उस 'तेज' को वेद में 'हिरण्यगर्भ' कहा गया है। सृष्टि का मूल क्रियाशील प्रवाह यह 'जलतत्त्व' ही है, जो तेज से प्रकट होता है। उस जल के प्रवाह से अतिसूक्ष्म कण बने और कालान्तर में यही सूक्ष्म कण एकत्र होकर पृथ्वी का कारण बने। प्रारम्भ से सृष्टि-सृजन की पहली आहुति द्युलोक में ही हुई थी। उसी में विद्यमान 'सत्' से 'तेज' और तेज से 'जल' की उत्पत्ति हुई थी तथा जल के सूक्ष्म पदार्थ कणों के सम्मिलन से पृथ्वी का निर्माण हुआ था। धरती से अन्न का उत्पादन हुआ तथा दूसरे चरण में सूर्य उत्पन्न हुआ।

सप्तम अध्याय

इस अध्याय में छब्बीस खण्ड हैं। इन शब्दों में 'ब्रह्म' से 'प्राण' तक की व्याख्या प्रस्तुत की गयी है। 'ब्रह्म' की वास्तविक स्थिति क्या है, उस पर प्रकाश डाला गया है। एक से पन्द्रहवें खण्ड तक में 'ब्रह्म का यथार्थ रस क्या है?' इसका वर्णन किया गया है। इन खण्डों में ऋषि सनत्कुमार नारद को 'प्राण' के सत्य स्वरूप का ज्ञान कराते हैं। नारद जी चारों वेदों, इतिहास, पुराण, नृत्य, संगीत आदि विद्याओं के ज्ञाता थे। उन्हें अपने ज्ञान पर गर्व था। एक बार उन्होंने सनत्कुमारजी से 'ब्रह्म' के बारे में प्रश्न किया, तो उन्होंने नारद जी से यही कहा कि "अब तक आपने जो ज्ञान प्राप्त किया है, वह सब तो ब्रह्म का नाम-भर है।" उन्होंने कहा- "नाम के ऊपर वाणी है; क्योंकि वाणी द्वारा ही नाम का उच्चारण होता है। इसे ब्रह्म का एक रूप माना जा सकता है। वाणी के ऊपर संकल्प है; क्योंकि संकल्प ही मन को प्रेरित करता है। संकल्प के ऊपर चित्त है; क्योंकि चित्त ही संकल्प करने की प्रेरणा देता है। चित्त से भी ऊपर ध्यान है; क्योंकि ध्यान लगाने पर ही चित्त संकल्प की प्रेरणा देता है। ध्यान से ऊपर विज्ञान है; क्योंकि विज्ञान का ज्ञान होने पर ही हम सत्य-असत्य का पता लगाकर लाभदायक वस्तु पर ध्यान केन्द्रित करते हैं। विज्ञान से श्रेष्ठ बल है और बल से भी श्रेष्ठ अन्न है; क्योंकि भूखे रहकर न बल होगा, न विज्ञान होगा, न ध्यान लगाया जा सकेगा।"

अष्टम अध्याय

इस अध्याय में शरीर में स्थित आत्मा की अजरता-अमरता का विवेचन किया गया है। इस अध्याय में पन्द्रह खण्ड हैं। एक से छह खण्ड तक के खण्ड में 'शरीर में आत्मा की स्थिति के बारे में बताया गया है। इन छह प्रारम्भिक खण्डों में शरीर के भौतिक स्वरूप में आत्मा की स्थिति का वर्णन किया गया है और हृदय तथा आकाश की तुलना की गयी है। यहाँ आत्मा के इस प्रसंग को गुरु-शिष्य परम्परा के माध्यम से अभिव्यक्त किया गया है। गुरु अपने शिष्यों से कहता है कि "मानव-हृदय में अत्यन्त सूक्ष्म रूप से 'ब्रह्म' विद्यमान रहता है।" 'स वा एष आत्मा हृदि तस्यैतदेव निरूक्त्ँ हृद्ययमिति तस्माद्धदथमहरहर्वा एवंवित्स्वर्ग लोकमेति॥3/3॥' अर्थात् वह आत्मा हृदय में ही स्थित है। 'हृदय' का अर्थ है- 'हृदि अयम्'- वह हृदय में है। यही आत्मा की व्युत्पत्ति है। इस प्रकार जो व्यक्ति आत्मतत्त्व को हृदय में जानता है, वह प्रतिदिन स्वर्गलोक में ही गमन करता है। वास्तव में जितना बड़ा यह आकाश है, उतना ही बड़ा और विस्तृत यह चिदाकाश हृदय भी है। इस हृदय में अत्यन्त सूक्ष्म रूप में 'आत्मा' निवास करता है। यह शरीर समय के साथ-साथ जर्जर होता चला है और एक दिन वृद्ध होकर मृत्यु का ग्रास बन जाता है। इसीलिए शरीर को नश्वर कहा गया है, परन्तु इस शरीर में जो 'आत्मा' विद्यमान है, वह कभी नहीं मरता। वह न तो जर्जर होता है, न वृद्ध होता है और न मरता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-1

खण्ड-1 | खण्ड-2 | खण्ड-3 | खण्ड-4 | खण्ड-5 | खण्ड-6 | खण्ड-7 | खण्ड-8 | खण्ड-9 | खण्ड-10 | खण्ड-11 | खण्ड-12 | खण्ड-13

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-2

खण्ड-1 | खण्ड-2 | खण्ड-3 | खण्ड-4 | खण्ड-5 | खण्ड-6 | खण्ड-7 | खण्ड-8 | खण्ड-9 | खण्ड-10 | खण्ड-11 | खण्ड-12 | खण्ड-13 | खण्ड-14 | खण्ड-15 | खण्ड-16 | खण्ड-17 | खण्ड-18 | खण्ड-19 | खण्ड-20 | खण्ड-21 | खण्ड-22 | खण्ड-23 | खण्ड-24

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-3

खण्ड-1 से 5 | खण्ड-6 से 10 | खण्ड-11 | खण्ड-12 | खण्ड-13 से 19

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-4

खण्ड-1 से 3 | खण्ड-4 से 9 | खण्ड-10 से 17

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-5

खण्ड-1 | खण्ड-2 | खण्ड-3 से 10 | खण्ड-11 से 24

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-6

खण्ड-1 से 2 | खण्ड-3 से 4 | खण्ड-5 से 6 | खण्ड-7 | खण्ड-8 | खण्ड-9 से 13 | खण्ड-14 से 16

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-7

खण्ड-1 से 15 | खण्ड-16 से 26

छान्दोग्य उपनिषद अध्याय-8

खण्ड-1 से 6 | खण्ड-7 से 15

श्रुतियाँ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=छान्दोग्य_उपनिषद&oldid=613104" से लिया गया