जामा मस्जिद बुरहानपुर  

Disamb2.jpg जामा मस्जिद एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- जामा मस्जिद
जामा मस्जिद बुरहानपुर
जामा मस्जिद, बुरहानपुर
विवरण फ़ारूक़ी शासनकाल में अनेक इमारतें और मस्जिदें बनाई गई सबसे सर्वश्रेष्ठ इमारत है, जो अपनी पायेदारी और सुंदरता की दृष्टि से सारे भारत में अपना विशेष स्थान एवं महत्व रखती है।
स्थान बुरहानपुर, मध्य प्रदेश
निर्माता 'रूकैया'[1]
निर्माण काल 936 हिजरी (सन् 1529 ई.)
वास्तुकला यह मस्जिद पूर्णतः 'संगेखारा' नामक पत्थर से निर्मित की गई है।
Map-icon.gif गूगल मानचित्र
अन्य जानकारी इसकी लंबाई 34 फ़ुट और चौडाई 12 फ़ुट है। इसमें जहाँगीर बादशाह के युग के किवाड़ लगे हैं। प्रारंभ में यह दरवाज़ा 12 फ़ुट ऊँचा था, जो मस्जिद की भव्यता को देखते हुए छोटा था।
बुरहानपुर मध्य प्रदेश का प्राचीन नगर है, जिसे 'नासिरउद्दीन फ़ारूक़ी' बादशाह ने सन् 1406 ई. में आबाद किया था। फ़ारूक़ी शासनकाल में अनेक इमारतें और मस्जिदें बनाई गई थीं। इनमें सबसे सर्वश्रेष्ठ इमारत जामा मस्जिद है, जो अपनी पायेदारी और सुंदरता की दृष्टि से सारे भारत में अपना विशेष स्थान एवं महत्व रखती है। यह मस्जिद निर्माण कला की दृष्टि से एक उत्तम उदाहरण है। प्राचीन काल में बुरहानपुर की अधिकतर आबादी उत्तर दिशा में थी। इसीलिए फ़ारूक़ी शासनकाल में बादशाह 'आजम हुमायूं' की बेगम 'रूकैया' ने 936 हिजरी सन् 1529 ई. में मोहल्ला इतवारा में एक मस्जिद बनवायी थी, जिसे बीबी की मस्जिद कहते हैं। यह शहर बुरहानपुर की पहली जामा मस्जिद थी। धीरे-धीरे शहर की आबादी में विस्तार होता गया। लोग चारों तरफ़ बसने लगे, तो यह मस्जिद शहर से एक तरफ़ पड गई, जिससे जुमा शुक्रवार की नमाज़ पढ़ने के लिये लोगों को परेशानी होने लगी थी।[2]

इतिहास

'आदिलशाह फ़ारूक़ी', जो उस समय सूबा ख़ानदेश का बादशाह था, नेकदिल और धर्मपालक था। उसने लोगों की पेरशानी को दूर करने के लिये शहर के मध्य में जामा मस्जिद बनाने का आदेश जारी किया था। शहर के प्रत्येक भाग के लोग एक ही समय में और आसानी से निर्धारित समय पर नमाज़ के लिए पहुँच सकें, इस हेतु यह सोचा गया था। पाँच वर्ष तक रात-दिन निर्माण कार्य होने के पश्चात् यह भव्य मस्जिद बनकर तैयार हुई थी। यह मस्जिद दिल्ली की जामा मस्जिद की तरह बनाई गई है। इसके चारों तरफ़ दुकानें और चौक है, जहाँ काफ़ी चहल-पहल रहती है।

निर्माण शैली

मस्जिद में प्रवेश करने के लिए पूर्व में एक भव्य ऊँचा दरवाज़ा है, जो हुजरों के साथ बनवाया गया था। इसकी लंबाई 34 फ़ुट और चौडाई 12 फ़ुट है। इसमें जहाँगीर बादशाह के युग के किवाड़ लगे हैं। प्रारंभ में यह दरवाज़ा 12 फ़ुट ऊँचा था, जो मस्जिद की भव्यता को देखते हुए छोटा था। सन् 1282 हिजरी में भोपाल की बेगम 'सिंकंदर जहाँ साहिबाँ' हज क लिए बम्बई (वर्तमान मुम्बई) जा रही थीं। रास्ते में दो तीन-दिन बुरहानपुर में रूकी थीं। उन्होंने इस दरवाज़े को मस्जिद के लायक़ न पाकर पुराने दरवाज़े के आगे 12 गुना 8 ज़मीन पर बढाकर नया शानदार दरवाज़ा बनवाया था, जिसकी ऊँचाई लगभग 25 फ़ुट है। यह पत्थरों द्वारा बनाया गया है। इसकी छत पर अति सुंदर बेल-बूटों की चित्रकारी की गई है। मुख्य द्वार से आगे तीन ओर 22 हुजरे (कोस्ट) दिखाई देते हैं। ये हुजरे मुग़ल शासन काल में सुबेदार मिर्ज़ा अब्दुल रहीम ख़ानख़ाना ने 'हज़रत मीर नोमान नक्शबंदी' के कहने से और उनकी निगरानी में तैयार करवाया था। वे ही उस समय मस्जिद के इमाम और प्रबंधक के पद पर नियुक्त थे। अब्दुल रहीम उनका बहुत आदर करते थे। थोड़ा और आगे जाने पर सामने 'मजारात' दिखाई देती है। ये मजारात मस्जिद के राजगीर प्रबंधक एवं वक्तागणों की है।[2]

क़ुरान की आयतें, जामा मस्जिद, बुरहानपुर

श्रेष्ठ स्थापत्य निर्माण

उत्तर दक्षिण में दो विशाल हौज़ हैं, जो 30 गुना 30 फ़ुट के हैं। एक हौज़ मस्जिद के निर्माता आदिलशाह फ़ारूक़ी ने बनवाया था और दूसरा हौज़ जहाँगीर के शासनकाल में अब्दुल रहीम ख़ानख़ाना ने बनवाया था। इन हौजों में लाल बाग़ ख़ूनी भंडारा से जामा मस्जिद तक भूमिगत पक्की नालियों द्वारा जल पहुँचाया गया था। अब यह व्यवस्था समाप्त हो गई है। अब इन हौजों में नलों द्वारा पानी भरा जाता है। मस्जिद से लगा हुआ विशाल सेहन है, जिसकी लंबाई उत्तर दक्षिण में160 फ़ुट और चौडाई कमानों से कारज तक 117 फ़ुट है, जिसे अब्दुल रहीम ख़ानख़ाना ने सन् 1024 हिजरी में बनवाया था। नवीन फ़र्श 1352 हिजरी मे बनाया गया है। सेहन के उत्तर दक्षिण में भव्य मीनारें हैं, जो एक जैसे आकार की बनी हैं। ये मीनारें ज़मीन से ऊपरी कलश तक 130 फ़ुट ऊँची हैं। इतने ऊँचे मीनार देखकर इंसान आश्चर्यचकित हो जाता है। मीनार के उपर जाने के लिए चक्करदार सीढियाँ हैं। इन मीनारों पर चढकर शहर का दृश्य अधिक आकर्षक दिखता है। दूर दूर तक गांव साफ़ नजर आते हैं। इसके मीनार दिल्ली की जामा मस्जिद की मीनारों से ऊँचे हैं।

मस्जिद की अन्य विशेषताएँ

यह मस्जिद पूर्णतः 'संगेखारा' नामक पत्थर से निर्मित की गई है। बताया जाता है कि इस मस्जिद के निर्माण के लिए बड़े परिश्रम से मांडवगढ़ की पहाड़ियों से इन पत्थरों को मंगवाया गया था। पत्थर मंगवाने में जो ख़र्च हुआ, वह उस समय के सोने के समतुल्य मूल्य का था। यह शानदार मस्जिद 15 सुंदर कमानों पर आधारित है। इसके प्रत्येक स्तंभ के उपरी भाग पर बहुत ही सुंदर सूरजमुखी फूल खोदे गए हैं, जो उत्कृष्ट शिल्पकारी के नमूने हैं। मस्जिद की लंबाई अंदर से 148 फ़ुट और चौडाई 52 फ़ुट है। यह इमारत 70 स्तंभों पर स्थित है। पत्थरों को इस प्रकार रखा गया है कि जैसे-जैसे पत्थर ऊपर उठते जाते हैं, वैसे-वैसे कमानों के साथ अपने आप छत तैयार हो जाती है। कमानें स्वयं छत हैं, उसका आधार भी है।[2]

बनावट की दृष्टि मे इस प्रकार की छत सम्पूर्ण भारत में कहीं भी देखने को नहीं मिलती। मस्जिद की लम्बाई में 5 दालान और चौडाई में 15 दालान हैं। लम्बाई वाले प्रत्येक दालान में 500 आदमी आसानी से नमाज़ पढ़ सकते हैं। हर दालान के सिरे पर उजालदान (रौशनदान) बनाये गये हैं। दीवार की मोटाई 5 फ़ुट है। दीवारों के ऊपर चारों ओर पत्थर के सुंदर कंगूरे कुरेदे गये हैं। बाहर की ओर मस्जिद की दीवार 25 फ़ुट लंबी है। दीवार पर छोटे-छोटे मेहराबनुमा चिरागदान बनाये गये हैं। मस्जिद के अंदर पश्चिम दिशा की दीवार पर 15 मेहराबें हैं। हर एक मेहराब पर अत्यंत ही सुंदर नक़्क़ाशी खोदी गयी है। मध्य भाग की कमान पर जो शिल्प कला प्रदर्शित है, वह आश्चर्यचकित करने वाली है। पत्थर पर इतना सूक्ष्म काम बस देखते ही बनता है। इस कमान के पास तीन सीढ़याँ बनी हैं। इस पर खड़े होकर संबोधन किया जाता है। इस पर बैठकर अथवा खड़ा होने पर मस्जिद में बैठे हुए लोगों को आसानी से देखा जा सकता है और उन तक आवाज़ सरलता से पहुँच जाती है।

शिलालेख

मस्जिद की इस मध्य कमान के ऊपरी भाग पर अरबी भाषा में अत्यंत सुंदर ढंग से आलेख खुदा है। यह लेख आदिलशाह युग का है। इसमें क़ुरान शरीफ़ की आयतों का अर्थ, हदीस पाक, जिसमें मस्जिद निर्माण किये जाने का महत्व, निर्माणकर्ता बादशाह का नाम, इमारत की सुंदरता की सराहना, मस्जिद के शिलान्यास सन् तथा अंत में लेख खोदने वालों के नाम अंकित हैं। दूसरा शिला लेख मस्जिद के उत्तरी भाग के कोने वाली मेहराब के ऊपरी भाग में अरबी भाषा में है। इस में भी क़ुरान पाक की आयतें, हदीस पाक है। बाद में फ़ारूक़ी बादशाह की वंशावली है। अंतः में मस्जिद के निर्माण का सन् अंकित है। तीसरा लेख इसी अरबी लेख के नीचे है। यह संस्कृत भाषा और प्राचीन देवनागरी लिपि में खुदा है। यह छः पंक्तियों में है। इस में क़ुरान की आयतें और हदीस पाक का अनुवाद, बाद में फ़ारूख़ी बादशाहों का वंश विवरण अंकित है। अंत में मस्जिद का निर्माण सन, महिना, दिन, पल, घड़ी अंकित है। अतः मूल आलेख प्रस्तुत किया गया है।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. फ़ारूक़ी शासनकाल में बादशाह 'आजम हुमायूं' की बेगम 'रूकैया'
  2. 2.0 2.1 2.2 2.3 शाही जामा मस्जिद (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 21 जून, 2011।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=जामा_मस्जिद_बुरहानपुर&oldid=611675" से लिया गया