ताप  

ताप (अंग्रेज़ी:Temperature) ताप को तापमान भी कहते हैं। वस्तु की अष्णता और शीतलता के माप को ताप कहते हैं। अर्थात् ताप वस्तु की ऊष्मीय अवस्था का सूचक है। इसी के कारण ऊष्मा का स्थानान्तरण होता है। ऊष्मीक ऊर्जा ताप की वस्तु से निम्न ताप की वास्तु में जाती है। पृथ्वी का औसत तापमान सदैव समान रहता है। ग्लोब को तीन तापमान क्षेत्रों में विभाजित किया गया है-

  1. उष्णकटिबंधीय क्षेत्र- यह कर्क रेखामकर रेखा के मध्य स्थित होता है। वर्षपर्यंत उच्च तापमान रहता है।
  2. समशीतोष्ण क्षेत्र- यह दोनों गोलार्द्धों में 230 30' और 660 30' अक्षांशों के मध्य स्थित है।
  3. शीत कटिबंध क्षेत्र- दोनों गोलार्द्धों में यह ध्रुवों और 660 30' अक्षांश के मध्य स्थित है। वर्षपर्यंत यहां निम्न तापमान रहता है।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ताप&oldid=271428" से लिया गया