तृतीया नदी  

तृतीया नदी का उल्लेख महाभारत, सभापर्व[1] में हुआ है-

'तृतीया ज्येष्ठिलाचैव शौणश्चापि महानद: चर्मण्वती तथा चैव पर्णाशाच महानदी'।
  • तृतीया नदी का 'ज्येष्ठिला' (सोन की सहायक जोहिला) और 'शोण' (सोन) के साथ उल्लेख है।
  • इस उल्लेख के आधार पर यह नदी बिहार के सोन के निकट बहने वाली कोई नदी जान पड़ती है।
  • तृतीय नदी का अभिज्ञान अनिश्चित है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 409 |

  1. महाभारत, सभापर्व 9, 21

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तृतीया_नदी&oldid=501939" से लिया गया