दशावतार दिन  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की द्वादशी को यह व्रत आरम्भ होता है।
  • उस दिन विष्णु मत्स्य के रूप में प्रकट हुए थे।
  • प्रत्येक शुक्ल द्वादशी से भाद्रपद तक प्रत्येक मास में क्रम से दशावतारों के रूप में विष्णु की पूजा की पूजा की जाती है।[1]
  • दूसरे मत के अनुसार भाद्रपद शुक्ल की दशमी को यह व्रत आरम्भ होता है।
  • वर्ष के उसी मास एवं तिथि पर दस वर्षों तक यह व्रत किया जाता है।
  • प्रति वर्ष विभिन्न भोजन का अर्पण (यथा–प्रथम वर्ष में पूप अर्थात् पूआ, दूसरे में घृतपूरक.....आदि) किया जाता है।
  • भोजन के दस भाग देवों के लिए अलग से रखे जाते हैं।
  • दस भाग ब्राह्मणों तथा दस भाग अपने लिए रखा जाता है।
  • भार्गव, राम, कृष्ण, बौद्ध एवं कल्कि के सहित अवतारों की बहुमूल्य दस मूर्तियाँ होती है।[2]


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि व्रतखण्ड 1, 1158-1161, विष्णु पुराण से उद्धरण
  2. व्रतराज (358-359, भविष्य पुराण से उद्धरण); स्मृतिकौस्तुभ (239)।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दशावतार_दिन&oldid=172368" से लिया गया