दिल का सौदा दिल से करना -आदित्य चौधरी  

फ़ेसबुक पर शेयर करें
Copyright.png
दिल का सौदा दिल से करना -आदित्य चौधरी

शोले की तरह जलना है तो पहले ख़ुद को कोयला करना
बादल की तरह उड़ना है तो पहले बन पानी का झरना

जो सबने किया वो तू कर दे, दुनिया में इसका मोल नहीं
हैं सात समंदर धरती पर, तू पार आठवां भी करना

हर चीज़ यहाँ पर बिकती है, इक प्यार का ही कोई मोल नहीं
तू छोड़ के इन बाज़ारों को, दिल का सौदा दिल से करना

सदियों से दफ़न मुर्दे हैं ये, क्या नया गीत सुन पाएँगे ?
अब खोल दे सब दरवाज़ों को और नई हवा से क्या डरना

हाथों की चंद लकीरों से, इन किस्मत की ज़जीरों से
हो जा आज़ाद परिंदे अब, फिर जी लेना या जा मरना



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दिल_का_सौदा_दिल_से_करना_-आदित्य_चौधरी&oldid=601619" से लिया गया