दुर्मिल सवैया  

दुर्मिल सवैया में 24 वर्ण होते हैं, जो आठ सगणों (।।ऽ) से बनते हैं और 12, 12 वर्णों पर यति होती है, अन्त सम तुकान्त ललितान्त्यानुप्रास होता है। यह छन्द तोटक वृत्त का दुगुना है। इसका प्रयोग केशव[1], तुलसी [2] से लेकर रीतिकाल तथा आधुनिक कवियों तक ने किया है।

  • "जल हू थल हू परिपूरण श्री निमि के कुल अद्भुत जाति जगे।"[3]
  • "अवधेस के द्वारे सकारे गयी सुत गोद मै भूपति लै निकसे।"[4]
  • "सखि, नील नभस्सर से उतरा, यह हँस अहा तिरता-तिरता।"[5]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

धीरेंद्र, वर्मा “भाग- 1 पर आधारित”, हिंदी साहित्य कोश (हिंदी), 741।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. रामचन्द्रिका
  2. कवितावली
  3. रामचन्द्रिका, 5 : 22
  4. कवितावली, 1
  5. साकेत, 9

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दुर्मिल_सवैया&oldid=238276" से लिया गया