दुर्लभ वर्धन  

दुर्लभ वर्धन सातवीं शताब्दी ई. में कश्मीर के कर्कोटक वंश का प्रवर्तक था। चीनी वृत्तों में इसे 'तु-लोन-प' कहा जाता है।

  • कर्कोटक वंश ने 855 ई. तक कश्मीर पर राज्य किया था।
  • दुर्लभ वर्धन द्वारा स्थापित वंश के बाद उत्पल वंश का शासन कश्मीर पर स्थापित हुआ।
  • चीनी वृत्तों में दुर्लभ वर्धन को 'तु-लोन-प' नाम से पुकारा गया है।
  • कर्कोटक वंश के प्रसिद्ध राजाओं में ललितादित्य तथा जयापीड विनयादित्य का नाम मुख्य रूप से लिया जाता है।
  • प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेनसांग दुर्लभ वर्धन के समय में कश्मीर आया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

सम्बंधित कडियाँ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दुर्लभ_वर्धन&oldid=322701" से लिया गया