दूर्वागणपति व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • दो या तीन वर्षों के लिए श्रावण या कार्तिक शुक्ल पक्ष की अष्टमी को यह व्रत होता है।
  • लाल पुष्पों, बिल्व, अपामार्ग, शमी, दूर्वा तथा तुलसी के पात्रों तथा अन्य उपचारों के साथ गणेश मूर्ति की पूजा की जाती है।
  • गणपति के दस नामों वाले मन्त्र का उच्चारण किया जाता है।[1]
  • रविवार को पड़ने वाली चौथ से आरम्भ होता है।[2]
  • श्रावण शुक्ल पंचमी से श्रावण कृष्ण दशमी तक 16 उपचारों तथा दूर्वा, बिल्व, अपामार्ग आदि के दलों से 21 दिनों तक गणपति पूजन किया जाता है।[3]


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 520-523); व्रतराज (127-129, सौरपुराण से, जहाँ शिव ने स्कन्द को बताया है कि पार्वती देवी ने इसे सम्पादित किया था
  2. गणपतिपूजन; व्रतराज (141-143, स्कन्द0 से उद्धरण); व्रतार्क (66-67
  3. व्रतराज (129-141

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दूर्वागणपति_व्रत&oldid=188851" से लिया गया