दूर्वा अष्टमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • भाद्रपद शुक्ल पक्ष की सप्तमी को उपवास रखा जाता है।
  • गंध, पुष्प, धूप आदि से विशेषतः दूर्वा एवं शमी के साथ अष्टमी को शिव पूजन भी होता है।[1]
  • जब अगतस्त्य का उदय हो जाता है या सूर्य कन्या राशि में रहता है, तब इसका सम्पादन नहीं होता है।[2]
  • इस प्रकार में दूर्वा को ही देवी मानकर पुष्पों, फलों आदि से उसकी पूजा की जाती है।
  • इसमें दो मन्त्र कहे जाते हैं, जिनमें से एक का अर्थ यों है—'हे दूर्वा तुम अमर हो, देव एवं असुरों से सम्मानित हो, मुझे सौभाग्य, सन्तति एवं सभी सुख दो।'
  • तिल एवं गेहूँ के आटे से बने भोजन से ब्राह्मणों को भोजन कराया जाता है।
  • सम्बन्धियों एवं मित्रों का सम्मान करना; यह स्त्रियों के लिए अनिवार्य है।
  • इसका सम्पादन भाद्रपद शुक्ल की अष्टमी को ज्येष्ठा या मूल नक्षत्र में तथा अगस्त्य के उदित होने तथा सूर्य के कन्या राशि में रहने पर नहीं होता।[3]


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि व्रतखण्ड 1, 873-875; कृत्यकल्पतरु (व्रतखण्ड 239-241); हेमाद्रि (काल0 107
  2. व्रतकालविवेक (15); पुरुषार्थचिन्तामणि (120
  3. भविष्योत्तरपुराण (56); पुरुषचिन्तामणि (127-129); स्मृतिकौस्तुभ (228-230

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दूर्वा_अष्टमी&oldid=188454" से लिया गया