देव  

देव एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है दिव्य

  • ईरानी में दाएवा, भारत के वैदिक धर्म में कई दिव्य शक्तियों में से एक, जिनका आकाश, वायु और धरती देवता[1] के रूप में प्राकृतिक शक्तियों की पहचान के लिए मोटे तीर पर वर्गीकरण किया गया है।
  • वैदिक युग के अंतिम दौर में उभर कर सामने आई एकेश्वरवादी प्रणाली में देव एक सर्वोच्च शक्ति के आधीन हो गए।
  • वैदिक काल में ईश्वरों को दो श्रेणियों देवों और असुरों[2] में रखा गया था।
  • भारत में देव, असुरों से अधिक शक्तिशाली बन गए और कालांतर में असुरों को लगभग राक्षस माना जाने लगा।
  • ईरान में इससे विपरीत हुआ और देवों को ज़रथुस्त्र ने दानव कह कर त्याग दिया।
  • बौद्ध ब्रह्मांड में अस्तित्व के तीन क्षेत्र हैं। इनमें से निम्नवत काम-धातु[3] है।
  • काम-धातु को छह गतियों या नियतियों में रखा गया है, जिनमें देवताओं[4] का राज्य सर्वोच्च है।
  • इस नियति में कई स्वर्ग हैं, जिनमें अनेक देवता रहते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. उदाहरण के लिए; इंद्र, सोम
  2. अवेस्ता में दाएवा और अहुरा
  3. इच्छा का राज्य
  4. देव तथा देवियाँ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=देव&oldid=469307" से लिया गया