द्वादशी व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष की द्वादशी पर उपवास करने से पुण्य होता है।[1]
  • कुल लगभग 50 द्वादशीव्रत हैं।[2]
  • वराह पुराण[3] ने दस अवतारों (मत्स्य से कल्कि तक) के नामों पर 10 द्वादशियों का उल्लेख किया है।
  • अग्नि पुराण[4] ने कई द्वादशियों का उल्लेख किया है।
  • हेमाद्रि[5] ने ब्रह्मवैवर्त से आठ प्रकार की द्वादशियों का उद्धरण दिया है।[6]
  • 'युग्मवाक्य'[7] के मत से एकादशी से युक्त द्वादशी अच्छी मानी जाती है।


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णुधर्मोत्तरपुराण (1|151|1-21 एवं 1|160
  2. कृत्यकल्पतरु (व्रत0, 310-369); हेमाद्रि (व्रत0 1, 1162-1222); हेमाद्रि (काल, 289-298); कालनिर्णय (275-277); तिथितत्त्व (114-117); समयमयूख (92-95); पुरुषार्थचिन्तामणि (213-222), व्रतराज (475-495)।
  3. वराह पुराण, अध्याय 39-49
  4. अग्निपुराण (188
  5. हेमाद्रि (काल॰ 260-263
  6. देखिए गत अध्याय 5); और देखिए हेमाद्रि (काल0634-637), कृत्यरत्नाकर (129-131)।
  7. कालनिर्णय 275

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=द्वादशी_व्रत&oldid=188888" से लिया गया