द्वितीयाभद्रा व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • विष्टि नामक करण पर यह किया जाता है।
  • मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से प्रारम्भ होता है।
  • यह व्रत एक वर्ष तक किया जाता है।
  • इस व्रत में भद्रा देवी की पूजा की पूजा होती है।
  • इसमें इस मन्त्र का वाचन किया जाता है।

भद्रे भद्राय भद्रं हि चरिष्ये व्रतमेव ते।
निर्विध्नं कुरू में देवि कार्यसिद्धं च भावय।।

  • इसमें ब्राह्मण का सम्मान किया जाता है।
  • भद्रा करण काल में कर्ता को भोजन नहीं करना चाहिए।
  • अन्त में भद्रा की लोहे की या प्रस्तर या काष्ठ मूर्ति या चित्र की प्रतिष्ठा करके पूजा की जाती है।
  • इससे फल यह मिलता है कि भद्रा में किये गये संकल्पों की पूर्ति हो जाती है।[1]
  • अधिकांशतः भद्रा या विष्टि को भयानक एवं अशुभ माना जाता है।[2]


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 724-726); पुरुषार्थचिन्तामणि (52)।
  2. स्मृतिकौस्तुभ (565-566)।
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=द्वितीयाभद्रा_व्रत&oldid=172472" से लिया गया