धनाजी जादव  

  • धनाजी जादव एक प्रमुख मराठा सरदार था, जो अपनी वीरता के लिए जाना जाता है।
  • धनाजी ने 1689 ई. में शम्भुजी की पराजय और मृत्यु के पश्चात् मुग़लों के विरुद्ध मराठों का संघर्ष पूरी शक्ति से जारी रखा।
  • उसने मुग़लों के विभिन्न क्षेत्रों को बारी-बारी से रौंदा और मराठों का स्वराज्य के लिए संघर्ष लगातार जारी रखा।
  • 1707 ई. में मुग़लों की क़ैद से साहू की मुक्ति हो चुकी थी।
  • इस प्रकार साहू के मुक्त हो जाने के पश्चात् धनाजी जादव मराठा सेना का प्रधान बनाया गया।
  • धनाजी की मृत्यु हो जाने पर उसके स्थान पर उसका लड़का चन्द्रसेन जादव सेनापति बनाया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भट्टाचार्य, सच्चिदानन्द भारतीय इतिहास कोश, द्वितीय संस्करण-1989 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, 214।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धनाजी_जादव&oldid=227809" से लिया गया