धर्मचक्र  

धर्मचक्र
  • सारनाथ में स्थित सम्राट अशोक का चक्र 'सिंह स्तम्भ' भारत के संघ राज्य का प्रतीक है, नीचे 'सत्यमेव जयते' वेद वाक्य अंकित किया गया है।
  • चार सिंह चार विपरीत दिशाओं की ओर एक दूसरे से जुड़े हैं।
  • नीचे चार चक्र हैं।
  • चक्रों की तरह ही यह चारों सिंह भी गतिमान हैं।
  • प्रत्येक चक्र में 24 त्रिज्याएँ हैं जो दिव्य ज्ञान की 24 श्रेणियों के निर्देशक हैं।
  • बौद्ध मतानुसार यह 'ज्ञान चक्र' है, अशोक ने इसे 'धर्मचक्र' कहा है।
  • अशोक ने अपनी सभी विजयों में 'धर्म विजय' को सर्वश्रेष्ठ माना है। लोक कल्याण में धर्म का रहस्य देखा है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धर्मचक्र&oldid=469016" से लिया गया