धृष्टकेतु  

Disamb2.jpg धृष्टकेतु एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- धृष्टकेतु (बहुविकल्पी)

धृष्टकेतु पौराणिक महाकाव्य महाभारत तथा मान्यताओं के अनुसार कैकयवंश के एक राजा थे, जो कि युधिष्ठिर के सहयोगी भी थे।

  • इनकी पत्नी का नाम श्रुतकीर्ति था तथा इनके संतर्दन आदि पाँच पुत्र थे।[1]
  • ये महाभारत के युद्ध में, यह पाण्डवों की पक्ष से लड़े थे।[2] सूर्यग्रहण पर यह स्यमंतपंचक भी गया था।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 254 |

  1. भागवतपुराण. 9.24.38
  2. भागवतपुराण 10.78 [95.5] 13; महाभा. उद्योग पर्व 157.13; 50.44; भीष्म. 45.38.41
  3. भागवतपुराण 10.82.25

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धृष्टकेतु&oldid=546292" से लिया गया