ध्रुवीय ज्योति  

ध्रुवीय ज्योति आयन मण्डल में विधुत चुम्बकीय घटनाओं के परिणामस्वरूप दिखायी पड़ने वाले प्रकाशमय प्रभाव को कहते हैं। यह रात्रि के समय धरातल से लगभग 100 किमी की ऊंचाई पर उच्च अक्षांशीय क्षेत्रों में ही दिखता है। यह प्रकाश श्वेत, लाल एवं हरे चारों के रूप में दिखाई पड़ता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ध्रुवीय_ज्योति&oldid=490613" से लिया गया