नक्षत्रपूजा विधि  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • नक्षत्रों के स्वामियों की पूजा, यथा—अश्विनी, भरणी, कृतिका आदि के क्रम से स्वामी अश्विनीकुमारों, यम, अग्नि आदि की इसमें दीर्घ आयु, दुर्घटना-मृत्यु से छुटकारा, समृद्धि की प्राप्ति होती है।[1]


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वायु पुराण (80|1-39); हेमाद्रि (व्रत0 2, 594-597); कृत्यरत्नाकर (557-560)।
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नक्षत्रपूजा_विधि&oldid=140221" से लिया गया