नवमीरथ व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • आश्विन कृष्ण पक्ष की नवमी पर उपवास एवं दुर्गा पूजा की जाती है।
  • वस्त्र, झण्डों, छत्र, दर्पणों, मालाओं, सिंहों, चित्रों से अलंकृत देवी रथ की पूजा की जाती है।
  • रथ में महिष पर त्रिशूल रखने वाली दुर्गा की स्वर्ण प्रतिमा को रख दिया जाता है।
  • जन मार्ग से रथ को ले जाकर दुर्गा मन्दिर के पास लाया जाता है।
  • मशालों, नाटक, नृत्यों आदि से रात भर जागरण (जागर) होता है।
  • दूसरे दिन प्रातः प्रतिमा स्नान का होता है।
  • देवी के भक्तों को भोजन करा जाता है।
  • शय्या, बैल, गाय आदि के दान से पुण्य प्राप्त होता है।[1]


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यरत्नाकर (314-315)।
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नवमीरथ_व्रत&oldid=140273" से लिया गया