नीराजन द्वादशी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वादशी को यह व्रत किया जाता है।
  • जब भगवान विष्णु शयन से उठते हैं, उस रात्रि के आरम्भ में इसका सम्पादन होता है।
  • विष्णु प्रतिमा एवं अन्य देवों, यथा—सूर्य, गौरी, शिव, अपने माता-पिता, गायों, अश्वों, गजों के समक्ष दीप की आरती करते हैं।
  • राजा को अपने प्रासाद में राजकीय वस्तुओं के प्रतीकों की पूजा करनी चाहिए।
  • एक साध्वी नारी अथवा किसी सुन्दर वेश्या को राजा के सिर पर तीन बार दीप घुमाना चाहिए।
  • यह एक महती शान्ति है जो रोगों को भगाती है और अतुल सम्पत्ति लाती है।
  • इसे सर्वप्रथम राजा अजपाल ने आरम्भ किया और इसे प्रतिवर्ष करना चाहिए।[1]

 

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमोद्रि (व्रतखण्ड 1, 1190-1194, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण)।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नीराजन_द्वादशी&oldid=140336" से लिया गया