नेडुंजेलियन  

  • पाण्ड्य राजवंशके शासक नेडुंजेलियन ने 'वह राजा जिसने तलैयालंगानम का युद्ध जीता' की उपाधि धारण की थी।
  • तलैयालंगानम युद्ध में नेडंजेलियन ने चोलों एवं चेरों को उनके अन्य 5 सामन्त मित्रों के साथ बुरी तरह पराजित किया था।
  • उसने चेर शासक 'शेय' (हाथी की आंख वाला) को बंदी बनाकर बंदीगृह में डाल दिया।
  • नेडंजेलियन की राजधानी मदुरा एवं उसके कुशल प्रशासन के विषय में हमें 'मदुरैकांजी ग्रंथ' से जानकारी मिलती है।
  • उसकी सेना में मोती तथा मछली का संग्रह करने वाले पूर्वी समुद्रतटीय लोगों को विशेष महत्त्व प्रदान किया जाता था।
  • उसने अपने समकालीन कवियों 'नक्कीकर', 'कल्लादनार' एवं 'मागुडिमरुदन' को संरक्षण प्रदान किया।
  • शिलप्पादिकारम की नायिका 'कण्णगी' के निर्दोष पति कोवलन को हार चुराने के अपराध में नेडंजेलियन ने मृत्यु दण्ड दे दिया था।
  • कालान्तर में वास्तविकता का पता चलने पर राजा ने एक निर्दोष व्यक्ति को प्राणदण्ड देने के प्रायश्चित में आत्महत्या कर ली।
  • उसने अपने शासन काल में अनेक यज्ञों का विधान एवं व्यापारियों तथा कृषकों के कल्याण के लिए अनेक नई योजनाएं कार्यान्वियत किया।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नेडुंजेलियन&oldid=176508" से लिया गया