पंचचूड़ा  

पंचचूड़ा स्वर्ग की पाँच प्रमुख अप्सराओं में से एक है। महाभारत में नारद और पंचचूड़ा अप्सरा के मध्य वार्तालाप का उल्लेख आता है।

  • नारद ने पंचचूड़ा के चरित्र, आवरण और भोग्या होने के विषय में प्रश्न किए।
  • तब पंचचूड़ा ने नारी स्वभाव की अनेक रहस्यमय बातें नारद को बताई थीं।
  • पंचचूड़ा ने बताया कि वे पुरुष भोग्या, चरित्र के मामले में अविश्वसनीय और रतिप्रधान स्वभाव की होती हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 458 |

  1. महाभारत, वनपर्व, अध्याय 134 शांतिपर्व, अध्याय 333, अनुशासनपर्व, अध्याय 38

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पंचचूड़ा&oldid=243836" से लिया गया