पंचशिख (गन्धर्व पुत्र)  

Plus.gif इस लेख में और पाठ सामग्री का जोड़ा जाना अत्यंत आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
Disamb2.jpg पंचशिख एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- पंचशिख (बहुविकल्पी)

पंचशिख एक गन्धर्व पुत्र था। वह 'पंचशिखा' नामक एक गन्धर्व वीणा के वादन द्वारा शास्ता की गन्धर्व पूजा (संगीत अभिनन्दन) के लिए गन्धर्व लोक से पृथ्वी पर उतरा था। तब भगवान महात्मा बुद्ध त्रयस्त्रिंश भवन (इन्द्र के लोक) में पांडु-कंबल शिला पर माता (महामाया) को अभिधर्मपिटक का त्रिमास (तीन माह) अवधि का उपदेश देकर पुन: भूलोक में आये थे।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 61 |

  1. बुद्धचरित, पृष्ठ 8

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पंचशिख_(गन्धर्व_पुत्र)&oldid=247728" से लिया गया