पंजासाहब  

पंजासाहब

पंजासाहब सिक्ख धर्म के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। यह तीर्थ स्थान पेशावर जाने वाले मार्ग पर तक्षशिला से एक स्टेशन आगे तथा हसन अब्दाल से दो मील दक्षिण में स्थित है।

  • पंजासाहब नाम की एक विचित्र कहानी है। एक समय वली कन्धारी नामक फ़कीर ने इस जगह के आसपास के सारे जल को अपनी शक्ति से खींचकर पहाड़ के ऊपर अपने क़ब्ज़े में कर लिया। यह कष्ट गुरु नानक से न सहा गया। अन्त में उन्होंने अपनी शक्ति से सम्पूर्ण जल खींच लिया। जल को जाता देखकर वली कन्धार पीर ने एक विशाल पर्वतखण्ड ऊपर से गिरा दिया। पर्वत को आता देखकर गुरु नानक ने अपने हाथ का पंजा लगाकर उस पर्वतखण्ड को वहीं पर रोक दिया। आज भी वह हाथ के पंजे का निशान इस तीर्थ में विद्यमान है।
  • वैशाख की प्रतिपदा को यहाँ पर मेला लगता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पंजासाहब&oldid=560878" से लिया गया