पद (काव्य)  

पद काव्य रचना की गेय शैली है। इसका विकास लोक गीतों की परंपरा से माना जाता है। यह मात्रिक छन्द की श्रेणी में आता है। प्राय: पदों के साथ किसी न किसी राग का निर्देश मिलता है। पद विशेष को सम्बन्धित राग में ही गाया जाता है।

  • 'टेक' पद का विशेष अंग है। प्राय: हिन्दी साहित्य में पद शैली की दो परम्पराएँ मिलती हैं। पहली सन्तों के 'सबदों' की दूसरी कृष्ण भक्तों की पद-शैली, जिसका आधार लोक गीतों की शैली होगा।
  • मध्यकालीन समय में भक्ति भावना की अभिव्यक्ति के लिए पद शैली का प्रयोग हुआ।
  • सूरदास का समस्त काव्य-व्यक्तित्व पद शैली से ही निर्मित है। 'सूरसागर' का सम्पूर्ण कवित्वपूर्ण और सजीव भाग पदों में है।
  • परमानन्ददास, नन्ददास, कृष्णदास, मीराबाई, भारतेंदु हरिश्चंद्र आदि के पदों में सूर की मार्मिकता मिलती है।
  • तुलसीदास ने अपनी कूछ रचनाएँ पद शैली में की हैं।
  • वर्तमान में पद शैली का प्रचलन नहीं के बराबर है, परन्तु सामान्य जनता और सुशिक्षित जनों में सामान्य रूप से इनका प्रचार और आकर्षण है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पद_(काव्य)&oldid=431203" से लिया गया