प्रदीप्त नवमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • आश्विन शुक्ल नवमी पर यह व्रत किया जाता है।
  • तिथिव्रत; एक वर्ष तक किया जाता है।
  • 16 अक्षरों वाले (ओं महाभगवत्यै महिषासुरमर्दिन्यै हुं फट्) मंत्र के साथ देवी पूजा की जाती है।
  • अग्नि में गुग्गुल डालकर शिव पूजा की जाती है।
  • अंगूठे एवं तर्जनी में घास का गुच्छा जब तक जलता रहे तब तक जितना खाया जा सके खाना चाहिए।[1]

 


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रत0 1, 899-900, देवीपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=प्रदीप्त_नवमी&oldid=188394" से लिया गया