प्रलंब असुर  

Disamb2.jpg प्रलंब एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- प्रलंब (बहुविकल्पी)

प्रलंब मथुरा के राजा कंस का असुर मित्र था, जिसका वध श्रीकृष्ण के भ्राता बलराम द्वारा हुआ था।[1]

  • 'भागवतपुराण' के अनुसार एक बार श्रीकृष्ण अन्य गोपों तथा बलराम के साथ खेल रहे थे। इसी समय असुर प्रलंब भी सखाओं में मिल गया और सबके साथ ‘हरिण-क्रीड़न’ नामक खेल खेलने लगा।
  • ‘हरिण-क्रीड़न’ खेल में हारने वाला जीतने वाले को अपने कंधे पर बिठाकर चलता था।
  • प्रलंब इस खेल में जान-बूझकर हार गया और बलराम उसके कंधे पर बैठ गए। इस अवसर का लाभ उठाकर प्रलंब बलरामजी को लेकर भाग निकला।
  • बलराम ने अपने शरीर का भार इतना अधिक कर लिया कि प्रलंब के लिए भागना भी मुश्किल हो गया। वह चल भी नहीं सका और अपने मूल रूप में आ गया।
  • प्रलंब तथा बलराम के मध्य कुछ देर तक युद्ध हुआ और अंत में प्रलंब मारा गया।


इन्हें भी देखें: धेनुकासुर वध एवं यमलार्जुन मोक्ष


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भागवतपुराण 2.7.34; 10.1; ब्रह्माण्डपुराण 3.6.15; 4.29.123; विष्णुपुराण 5.1.14; 4.1-2, 15,1

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=प्रलंब_असुर&oldid=475721" से लिया गया