प्रियदर्शिका  

प्रिदर्शिका हर्षवर्धन द्वारा रचित चार अंकों का नाटक है, जिसमें 'वत्सराज उदयन' तथा महाराज दृढ़वर्मा की कन्या 'प्रियदर्शिका' की प्रणय कथा का नाटकीय चित्रण मिलता है। हर्ष की काव्य-शैली सरल तथा सुबोध है। उसके वर्णनों में विस्तार मिलता है। प्राकृतिक दृश्यों का वर्णन भी सुन्दर है। प्रणय नाटकों के रूप में हर्ष का नाम अमर रहेगा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=प्रियदर्शिका&oldid=620952" से लिया गया