फ़क़ीर  

फ़क़ीर अरबी का शब्द है, जिसका अर्थ होता है 'निर्धन', जो मूलत: भिखारी दरवेश है।

  • आध्यात्मिक दृष्टि से फ़क़ीर शब्द का संबंध व्यक्ति की ईश्वर विषयक आध्यात्मिक आवश्यकता से है, क्योंकि ईश्वर ही है, जो पूर्णत: आत्मनिर्भर है।
  • यद्यपि यह शब्द मुस्लिम मूल का है, फिर भी हिंदुओं ने भी इसका इस्तेमाल किया और गौंसाई, साधु, भिक्कु के स्थान पर अक्सर इस शब्द का प्रयोग किया गया।
  • फ़क़ीरों को आमतौर पर पवित्र व्यक्ति माना जाता है, जिनके पास चमत्कारिक शक्तियाँ होती हैं।
  • ये प्राय: अशिक्षित होते है और उनके अनुयायी साधारण ग्रामीण लोग होते हैं।
  • मुसलमानों में प्रमुख सूफ़ी फ़क़ीर समुदाय हैं- 'चिश्तिया', 'कादरिया', 'नक़्शबंदिया' और 'सुहरावर्दिया'।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=फ़क़ीर&oldid=495503" से लिया गया