फूल बंगले  

ग्रीष्म काल में प्राय: यथासम्भव प्रतिदिन मन्दिरों में फूलों के भव्य बंगले बनते हैं । वृन्दावन के बिहारीजी तथा मथुरा के द्वारकाधीश में " फूल बंगलों " की छटा दर्शनीय होती है ।

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=फूल_बंगले&oldid=173718" से लिया गया