बहुव्रीहि समास  

बहुव्रीहि समास (अंग्रेज़ी: Attributive Compound) वह समास होता है जिसमें दोनों पद अप्रधान हों तथा दोनों पद मिलकर किसी तीसरे पद की ओर संकेत करते हैं, उसमें 'बहुव्रीहि समास' होता है। जैसे -

  1. नीलकण्ठ - नीला है कण्ठ जिसका अर्थात् 'शिव'।
  2. लम्बोदर - लम्बा है उदर जिसका अर्थात् 'गणेश'।
  3. दशानन - दस हैं आनन जिसके अर्थात् 'रावण'।
  4. महावीर - महान् वीर है जो अर्थात् 'हनुमान'।
  5. चतुर्भुज - चार हैं भुजाएँ जिसकी अर्थात् 'विष्णु'।
  6. पीताम्बर - पीत है अम्बर जिसका अर्थात् 'कृष्ण'।
  7. निशाचर - निशा में विचरण करने वाला अर्थात् 'राक्षस'।
  8. घनश्याम - घन के समान श्याम है जो अर्थात् 'कृष्ण'।
  9. मृत्युंजय - मृत्यु को जीतने वाला अर्थात् 'शिव'।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बहुव्रीहि_समास&oldid=612505" से लिया गया