बांग्ला भाषा  

बांग्ला भाषा भारतीय-आर्य परिवार की भाषा है। यह बांग्लादेश और भारत के पश्चिम बंगाल, असम तथा त्रिपुरा राज्यों के 20 करोड़ से अधिक तथा ब्रिटेन में बसे बड़े प्रवासी समुदाय द्वारा बोली जाती है। यह बांग्लादेश की राजभाषा और भारत के संविधान द्वारा मान्यता प्राप्त 18 भाषाओं में से एक है।

उद्भव

भाषाशास्त्रियों का एक समूह मानता है कि बाग्ला भाषा की उत्पत्ति 10वीं शताब्दी में हुई और यह मागधी प्राकृत से उत्पन्न हुई। अन्य का मानना है कि इसकी उत्पत्ति गौड़ी प्राकृत से सातवीं शताब्दी में हुई। लेकिन इस बारे में दोनों पक्ष सहमत हैं कि आरंभ में उड़िया, असमी और बांग्ला भाषाएं एक ही शाखा का निर्माण करती थीं, जिसमें से पहले उड़िया और बाद में असमी भाषा अलग हुई। यही कारण है कि बांग्ला भाषा व साहित्य की आरंभिक कृति 'चर्यपद' पर, जिसमें बौद्ध आध्यात्मिक गीत है, उड़िया और असमी बोलने वाले लोग भी अपना दावा करते हैं।

अन्य भाषा परिवार का प्रभाव

बांग्ला एक भारोपीय भाषा है, लेकिन इस पर दक्षिण एशिया के अन्य भाषा परिवारों का भी प्रभाव पड़ा है। 1916 में प्रकाशित एक शब्दकोश के अनुसार बांग्ला शब्दावली में

  1. 51.45 प्रतिशत विदेशी शब्द (सामान्यत: परिवर्तित संस्कृत शब्द, संस्कृत के भ्रंश शब्द और ग़ैर भारोपीय भाषाओं से लिए गए शब्द);
  2. 44 प्रतिशत अपरिवर्तित संस्कृत शब्द;
  3. 4.55 प्रतिशत विदेशी शब्द शामिल हैं।
  • अंतिम समूह में फ़ारसी भाषा के शब्द है, जिन्होंने बांग्ला भाषा को कुछ व्याकरण स्वरूप भी प्रदान किया है।

बांग्ला बोलियां

तीन बांग्ला बोलियां महत्त्वपूर्ण हैं-

  1. साधुभाषा (सभ्य या कुलीन भाषा)।
  2. मानकीकृत साहित्यिक भाषा, जिसकी शब्दावली में कई संस्कृत शब्द है और यह अशिक्षितों के लिए दुरूह है।
  3. चलितभाषा, यानी आम बोलचाल की भाषा, जिसमें कई लघु स्वरूप हैं। चलित या चलितभाषा का उपयोग शिक्षित बंगाली लोग और सामान्यजन, दोनों के द्वारा किया जाता है। यह कोलकाता और आसपास के ज़िलों की बोली पर आधारित है। आरंभिक 20वीं शताब्दी से यह साहित्यिक उपयोग में आने लगी और इसमें प्रधान शैली का रूप ले लिया है।

भिन्नताएँ

हालांकि सामाजिक वर्ग, शैक्षिक स्तर और धर्म के आधार पर भाषा के उपयोग में स्पष्ट भिन्नताएं हैं, लेकिन प्रमुख भिन्नता क्षेत्रीय बोलियों के बीच है। चार मुख्य क्षेत्रीय बोलियां हैं, जो बांग्लाभाषी क्षेत्र के चार प्राचीन खंडों के अनुरूप है –

  1. राधा (पश्चिम बंगाल मुख्य भूमि की बोलियां);
  2. पुंद्र या वारेद्र (पश्चिम बंगाल के उत्तरी हिस्सों और बांग्लादेश की बोलियां);
  3. कामरूप, (पूर्वोत्तर बांग्लादेश की बोलियां); और
  4. बंग (बांग्लादेश के अन्य हिस्सों की बोलियां)।
  • इन सब में सिल्हट और चटगांव बोलियों में विशेष लक्षणों का विकास हुआ है, जो अन्य बोलियों के लिए मुख्यत: दुरूह हैं।

व्याकरण

बांग्ला भाषा में कारक रूप सुरक्षित हैं , हालांकि हिन्दी जैसी पश्चिमी भारतीय-आर्य भाषाओं में इसका लोप हो चुका है। बांग्ला भाषा में चार से छह कारक हैं, जो इस बात पर निर्भर करते हैं कि विभक्ति शब्द किसी परिमेय या युक्तिसंगत जीव अथवा वस्तु को प्रस्तुत करता है या अपरिमेय को। इस रूप के साथ एकवचन क्रिया का उपयोग सिर्फ़ वक्ता द्वारा पूर्व परिचय अथवा अवमानना प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है या अन्यपुरुष में, जब अपरिमेय जीव वस्तु का उल्लेख हो।

बांग्ला लिपि

बांग्ला लिपि का उद्भव दो प्राचीन भारतीय लिपियों में से एक, ब्राह्मी लिपि से हुआ है, विशेषकर इसके पूर्वी स्वरूप से। इसके देवनागरी से कुछ अलग विकासधारा का अनुसरण किया। उड़िया लिपि का विकास अलग ढंग से हुआ, लेकिन एक दो अपवादों के अलावा बांग्ला और असमिया लिपियां एक समान हैं।

  • 12वीं शताब्दी तक बांग्ला वर्णमाला लगभग पूरी हो चुकी थी।
  • लेकिन 16वीं शताब्दी तक कुछ परिवर्तन होते रहे, जबकि 19वीं शताब्दी में जान-बूझकर कुछ बदलाव किए गए।
  • बांग्ला भाषा बाएं से दाहिनी ओर लिखी जाती है। इसमें कई समुच्चबोधक, ऊर्ध्व रेखा और अधोरेखाएं होती हैं एक के अलावा अन्य विराम चिह्नों को 19वीं शताब्दी की अंग्रेज़ी से ग्रहण किया गया।
  • पर्वती अधिकांशत: मानकीकृत है, जिसमें कलकत्ता विश्वविद्यालय ने 1936 में कुछ परिवर्तन किए गए।
  • जबकि ढाका की बांग्ला अकादमी ने 1936 के सुधारों को ही स्वीकार किया।
  1. कुछ समाचार पत्रों अथवा प्रकाशकों की अपनी विशिष्ट शैली है और पश्चिम बंगाल बांग्ला अकादमी ने वर्तनी में गए सुधारों का प्रस्ताव किया है कई पक्षों द्वारा बांग्ला वर्तनी को मानकीकृत करने के स्वतंत्र प्रयासों के कारण कुछ भ्रांति उत्पन्न हो गई है।
  2. विश्व प्रसिद्ध लेखक रबीन्द्रनाथ ठाकुर की भाषा बांग्ला, भारतीय भाषाओं में ऐसी पहली भाषा है, जिसने पश्चिमी धर्मनिरपेक्ष साहित्यिक शैलियों, जैसे गल्प, नाटक और संबोध-गीतिकाओं का विकास किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः