बाख़्त्री भाषा  

बाख़्त्री या बैक्ट्रीयाई एक पूर्वी ईरानी भाषा, जो प्राचीन काल में मध्य एशिया के 'बाख़्तर' (बैक्ट्रीया) क्षेत्र में बोली थी। किंतु समय के साथ-साथ यह भाषा विलुप्त हो गई।

  • भाषा वैज्ञानिक नज़रिए से बाख़्त्री के पश्तो, यिदग़ा और मुंजी भाषाओं के साथ गहरे सम्बन्ध थे।
  • बाख़्त्री भाषा प्राचीन सोग़दाई और पार्थी भाषाओं से भी मिलती-जुलती थी।
  • इस भाषा को लिखने के लिया ज़्यादातर यूनानी लिपि इस्तेमाल की जाती थी, इसलिए इसे कभी-कभी 'यूनानी-बाख़्त्री' (या 'ग्रेको-बाख़्त्री') भी कहा जाता है।
  • उत्तर भारत पर राज करने वाला कुषाण वंश भी इस भाषा को इस्तेमाल करता था, इसलिए इसे कभी-कभी 'कुषाण भाषा' या 'कुषाणी-बाख़्त्री' भी कहा जाता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बाख़्त्री_भाषा&oldid=494362" से लिया गया