बिंदी  

बिंदियां
बिंदियां

बिंदी स्त्रियों की सुंदरता को बढ़ाने के लिए माथे पर लगाने का गोल छोटा टीका होती है। बिंदी स्त्रियों के श्रृंगार में महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है और माथे को सजाने के लिए लगायी जाती है। बिंदी स्त्रियों के 16 श्रृंगार में से एक है।

  • लड़कियाँ बिंदी का उपयोग सुंदरता बढ़ाने के उद्देश्य से करती हैं और विवाहित महिलाओं के लिए यह सुहाग की निशानी मानी जाती है।
  • हिन्दू धर्म में शादी के बाद हर स्त्री को माथे पर लाल बिंदी लगाना आवश्यक परंपरा माना गया है।
  • बिंदी का महत्त्व केवल सौंदर्य बढ़ाने वाले श्रृंगार तक ही सीमित नहीं है।
  • एक मान्यता के अनुसार बिंदी लगाने की परंपरा आज्ञा चक्र पर दबाव बनाने के लिए प्रारंभ की गई ताकि मन एकाग्र रहे।
  • बिंदी तीन तरह की होती है:-


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बिंदी&oldid=613442" से लिया गया