बिहार राष्ट्रभाषा परिषद, पटना  

बिहार राष्ट्रभाषा परिषद की स्थापना का संकल्प बिहार राज्य की विधान सभा ने 11 अप्रैल, 1947 ई. के दिन किया था। भारत-पाक विभाजन सम्बन्धी असुविधाओं के कारण परिषद का कार्य 1950 ई. में प्रारम्भ हो सका, जब शिवपूजन सहाय इसके मंत्री नियुक्त हुए थे।

  • इस परिषद का उद्घाटन 11 मार्च, 1951 ई. के दिन हुआ। तब से यह विभिन्न क्षेत्रों में द्रुतगति से कार्यशील है।
  • परिषद के उद्देश्यों की सफलता के लिए श्रेष्ठ साहित्य के संकलन और प्रकाशन की व्यवस्था भी की गयी है।
  • प्रारम्भिक एवं वरिष्ठ ग्रंथ-प्रणेताओं एवं नवोदित साहित्यकारों को पुरस्कार देने की योजना बनी और सोचा गया कि उपयोग साहित्य का सम्पादन करने वालों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाय।[1]
  • विशिष्ट विद्वानों के सारगर्भित भाषणों का प्रबन्ध हुआ और हस्तलिखित एवं दुर्लभ साहित्य की खोज का काम हाथ में लिया गया तथा भोजपुरी, मैथिली एवं मराठी आदि लोक भाषाओं क शब्दकोश प्रस्तुत करने की दिशा में प्रयत्न प्रारम्भ हुआ। इस कार्यक्रम के अनुसार अब परिषद के पास हस्तलिखित एवं दुर्लभ ग्रंथों का विशाल संग्रह एकत्र हो गया है।
  • इसके द्वारा साहित्यिक एवं अन्य विषयों से सम्बद्ध प्राय: 70 ग्रंथ प्रकाशित हुए हैं, जो अपने क्षेत्र की मानक कृतियाँ हैं।
  • परिषद का वार्षिकोत्सव प्रतिवर्ष भव्य समारोह के साथ सम्पन्न होता है। योग्य विद्वानों के भाषणों की व्यवस्था इसी अवसर पर की जाती है।
  • बिहार राष्ट्रभाषा परिषद की ओर से त्रैमासिक 'परिषद पत्रिका' का भी प्रकाशन किया जाता है, जिसमें अधिकतर शोध रचनाएँ होती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी साहित्य कोश, भाग 2 |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |संपादन: डॉ. धीरेंद्र वर्मा |पृष्ठ संख्या: 384 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बिहार_राष्ट्रभाषा_परिषद,_पटना&oldid=523064" से लिया गया