बृहद्बल  

बृहद्बल नाम से कई राजाओं ने शासन किया है, उनका विवरण इस प्रकार से है-

  • बृहद्बल प्राचीन युग का एक राजा, जो देवलोक को प्राप्त हुआ।[1]
  • सुबल के पुत्र का नाम भी बृहद्बल था, जो गांधार देश का राजा था। वह द्रौपदी के स्वयंवर में भी आया था।[2]
  • एक बृहद्बल कौशल नरेश भी था, जिसे दिग्विजय के समय भीमसेन ने परास्त किया था। वह युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में आया था। महाभारत युद्ध में उसने कौरवों का साथ दिया और युद्ध के प्रथम दिन अभिमन्यु से लड़ा था। युद्ध के आठवें दिन कौशल नरेश भीष्म पितामह की सेना में शामिल हो युद्ध लड़ा। इसके रथ के ध्वज पर सिंह का प्रतीक था[3]। अभिमन्यु ने इसका संहार किया था।[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, आदिपर्व, अध्याय 1.
  2. महाभारत, आदिपर्व, अध्याय 186.
  3. सिंहकेतु
  4. महाभारत, सभापर्व, अध्याय 30, 34, उद्योगपर्व, अध्याय 57, 161, 166, भीष्मपर्व, अध्याय 45, 56, 87, 108, 114.

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बृहद्बल&oldid=360498" से लिया गया