बृहद आरण्यक  

  • इस शुक्लयजुर्वेदीय आरण्यक की विशेष प्रसिद्धि उपनिषद के रूप में है।
  • आत्मतत्त्व की इसमें विशेष विवेचना की गई है।
  • उपनिषदों के प्रकरण में इसकी विशद समीक्षा है।

इन्हें भी देखें: बृहदारण्यकोपनिषद


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

श्रुतियाँ
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बृहद_आरण्यक&oldid=108106" से लिया गया