बोरोबुदुर  

बोरोबुदुर स्तूप, इण्डोनेशिया

बोरोबुदुर बौद्ध धर्म से सम्बन्धित 'जावा द्वीप' (इण्डोनेशिया) का सर्वाधिक प्रसिद्ध स्तूप है, जिसे 750-854 ई. में शैलेन्द्र राजवंश के एक शासक ने बनवाया था। इसके निर्माता का नाम ज्ञात नहीं है और न ही इसके निर्माण की तिथि ज्ञात है। बोरोबुदुर स्तूप आज भी शैलेन्द्र राजाओं के वैभवपूर्ण युग के स्मारक के रूप में विद्यमान है।

  • बोरोबुदुर स्तूप को संसार का आठवाँ आश्चर्य माना जा सकता है।
  • इसकी वास्तुशैली पर भारतीय प्रभाव स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।
  • यह स्तूप एक ऊँची पहाड़ी की चोटी पर स्थित है।
  • इसमें 9 खण्ड हैं, जो उत्तरोत्तर एक दूसरे से छोटे बनाये गये हैं।
  • शीर्षस्थ खण्ड पर घंटे की आकृति का एक स्तूप है, जिसका आकार अति विशाल है।
  • सबसे नीचे के चौकोर खण्ड की लम्बाई 131 गज है।
  • बुद्ध की अनेक मूर्तियाँ इसके शिलापट्टों पर उत्कीर्ण हैं।
  • प्रदक्षिणा मार्ग के शिलापट्टों पर बुद्ध के जीवन की अनेक घटनाएँ उत्कीर्ण हैं, जिनमें से कुछ ‘ललितविस्तर’ से ली गई हैं।
  • यह स्तूप जावा और उसके पड़ोस के द्वीपों पर शासन करने वाले भारत के राजाओं की वास्तुशिल्पीय परिकल्पना की भव्यता का उत्कृष्ट उदाहरण है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 298 |


संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः